सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

बेंगलूरु/भाषा। कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए बेंगलूरु सिटी पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने सोमवार को कहा कि जिन लोगों को पृथक् रूप से घर में रहने के लिए कहा गया है अगर ऐसे लोग सार्वजनिक स्थलों पर पाए गए तो उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए घर में पृथक रहने के लिए 5,000 लोगों पर स्टांप लगाया गया है।’

राव ने कहा, ‘मुझे ऐसे फोन आए हैं जिसमें बताया गया कि ऐसे पृथक् रहने के स्टांप लगे लोग बीएमटीसी की बसों में घूम रहे हैं और रेस्त्रां में बैठे हुए हैं। कृपया ऐसे लोगों के बारे में 100 नंबर पर जानकारी दें। ऐसे लोगों को हिरासत में लिया जाएगा, गिरफ्तार किया जाएगा और सरकारी पृथक् इकाइयों में भेज दिया जाएगा।’

अधिकारियों के अनुसार, जिन लोगों पर घर में पृथक रहने का स्टांप लगाया गया है, उन्हें अपने घर में ही रहना चाहिए। यह अवधि 14 दिन की है। कर्नाटक में रविवार को कोविड-19 के छह नए मामलों की पुष्टि होने के साथ ही राज्य में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 26 तक पहुंच गई है। यह राज्य में एक दिन में संक्रमण की सबसे ज्यादा संख्या है।

कर्नाटक सरकार ने उन नौ जिलों में बेहद जरूरी सेवाओं के अलावा अन्य सभी कारोबारी प्रतिष्ठानों को बंद करने की घोषणा की है, जहां कोविड-19 के मामले सामने आए हैं।