बेंगलूरु/भाषा। सत्तारूढ़ भाजपा ने कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में सोमवार को चार सीटों पर जीत दर्ज की और आठ अन्य सीटों पर आगे चल रही है। इसी के साथ वह शानदार जीत और बहुमत हासिल करने की ओर बढ़ रही है।

विपक्षी दल कांग्रेस और जद (एस) के लिए ये नतीजे एक बड़ा झटका हैं। पूर्व के चुनाव में इन 15 सीटों में से 12 सीटें जीतने वाली कांग्रेस केवल दो निर्वाचन क्षेत्रों हुनसुर और शिवाजीनगर पर ही आगे चल रही है।

पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के नेतृत्व वाली जद (एस) उन सभी 12 सीटों पर पीछे चल रही है जहां उसने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। पूर्व में हुए चुनाव में उसके पास तीन सीटें थीं।

होसकोटे से निर्दलीय उम्मीदवार शरथ बच्चेगौड़ा जीत की ओर बढ़ रहे हैं। नतीजों से हैरान एक कांग्रेस नेता ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, हमने काफी खराब प्रदर्शन किया।

भाजपा को सदन में बहुमत में बने रहने के लिए कम से कम छह सीटों पर जीत की जरूरत है। भाजपा उम्मीदवार अराबैल शिवराम हेब्बार ने येल्लापुर से कांग्रेस के भीमण्ण नाइक को 31,400 से अधिक मतों से हराया।

मांड्या जिले में वोक्कालिंगा के गढ़ में भाजपा के लिए पहली जीत दर्ज कराकर इतिहास रचते हुए उसके उम्मीदवार नारायण गौड़ा ने जद (एस) के बीएल देवराज को 9,700 से अधिक मतों से हराया।

भाजपा के हीरेकेरूर से उम्मीदवार बीसी पाटिल और कागवाड से श्रीमंत पाटिल ने क्रमश: 29,194 और 16,202 मतों से जीत दर्ज की।

भाजपा के जो उम्मीदवार आगे चल रहे हैं उनमें आनंद सिंह (विजयनगर), रमेश जारकीहोली (गोकाक), के सुधाकर (चिक्काबल्लापुरा), महेश कुमातली (अथानी), अरुण कुमार गुट्टूर (रानीबेन्नुर), गोपालैया (महालक्ष्मी लेआउट), एस टी सोमशेखर (यशवंतपुरा) और बयारती बसवराज (के आर पुरा) शामिल हैं।

कांग्रेस प्रत्याशी एचपी मंजूनाथ (हुनसुर) और रिजवान अरशद (शिवाजीनगर) अपनी-अपनी सीट से आगे चल रहे हैं।