कोरोना से लड़ने के लिए बेंगलूरु में जनता ने दिखाया जज्बा। फोटो: एएनआई।
कोरोना से लड़ने के लिए बेंगलूरु में जनता ने दिखाया जज्बा। फोटो: एएनआई।

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कोरोना वायरस को पराजित कर हालात को बेहतर बनाने के लिए कर्नाटक सरकार मुस्तैदी से कदम उठा रही है। इसी क्रम में, राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर विभिन्न आदेश जारी किए गए हैं। इनमें इस बात का ध्यान रखा गया है कि लोगों की आवाजाही नियंत्रित की जाए ताकि कोरोना के संक्रमण का सिलसिला रुके, लेकिन आम जनता को दैनिक उपभोग की जरूरतों को लेकर कोई परेशानी न हो।

इसके लिए सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि कौनसी सेवाएं स्थगित की गई हैं और किन्हें जारी रखा गया है। कर्नाटक सरकार के एक आदेश के अनुसार, बेंगलूरु शहर, बेंगलूरु ग्रामीण, कलबुर्गी, चिकबल्लापुर, मैसूरु, मडिकेरी, धारवाड़, मेंगलूरु और बेलगावी में रात 12 बजे (23 मार्च) से रात 12 बजे (एक अप्रैल) तक खास एहतियात का पालन किया जाएगा।

इसके तहत सभी दुकानें, वाणिज्यिक प्रतिष्ठान, वर्कशॉप, गोदाम जिनमें आवश्यक सेवाओं से जुड़ीं चीजें न हों, बंद रखे जाएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसके तहत जिन तकनीकी कंपनियों/संस्थानों में घर से काम संभव हो, कर्मचारियों को छूट दी जाए।

निगम और निजी क्षेत्र की सभी एयरकंडीशंड बसें बंद रहेंगी। उक्त जिलों से अंतर-राज्य और अंतर-जिला परिवहन सेवाओं का भी परिचालन नहीं किया जाएगा। सरकार ने इस बात का खास ध्यान रखा है कि जरूरी वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति बाधित न हो। इसके लिए दवा, भोज्य पदार्थ, राशन, दूध, सब्जी, किराने का सामान, फल आदि की दुकानें खुलेंगी। इनकी आपूर्ति करने वाले वाहनों का परिचालन जारी रहेगा।

https://platform.twitter.com/widgets.js

इसके अलावा, पुलिस, दमकल, बिजली, पानी, नगर पालिका, बैंक, एटीएम, टेलीकॉम, डाक, सरकारी दफ्तर, पंचायतीराज संस्थान आदि से संबंधित सेवाएं जारी रहेंगी। सरकार और स्थानीय शासन की कैंटीन, रेस्तरां से खाना लेकर जाने, कृषि, रेशम उत्पादन, उद्यान विज्ञान, पशुपालन, मछली पालन आदि से संबंधित सेवाओं का संचालन नहीं रोका जाएगा।