श्वेता तिवाड़ी एवं श्रीयम
श्वेता तिवाड़ी एवं श्रीयम

जयपुर/भाषा। पुलिस ने राजधानी के प्रताप नगर थाना क्षेत्र में महिला और उसके दो वर्षीय बच्चे की हत्या के मामले का खुलासा करते हुए महिला के पति और एक अन्य व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि आरोपी व्यक्ति ने अपनी पत्नी व बच्चे से छुटकारा पाने के लिए एक परिचित को सुपारी देकर ये हत्याएं करवाईं। मामले में पुलिस को चकमा देने के लिए बच्चे के अपहरण और फिरौती का रूप देने की कोशिश की गई।

जयपुर के पुलिस आयुक्त आनंद श्रीवास्तव ने शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया, श्वेता तिवाड़ी एवं उसके 21 माह के बेटे श्रीयम की हत्या के आरोप में महिला के ही पति रोहित तिवाड़ी तथा उसके एक जानकार सौरभ तिवाड़ी उर्फ राजकुमार उर्फ राज चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है। श्रीवास्तव ने कहा, दोनों ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है और हमारे पास इसके पुख्ता सबूत है कि यह अपराध इन्हीं लोगों ने किया है।

आरोपी रोहित इंडियन आयल में वरिष्ठ अधिकारी है। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को प्रतापनगर थाना क्षेत्र के यूनिक टावर अपार्टमेंट के एक घर में श्वेता तिवाड़ी (30) की हत्या कर दी थी और उसका बच्चा घर से गायब मिला। अगले दिन बुधवार को बच्चे का शव अपार्टमेंट भवन के पास मिला।

इस बारे में महिला के पति रोहित तिवाड़ी ने ही मामला दर्ज करवाया था। हत्यारा महिला का मोबाइल फोन अपने साथ ले गया और उसी मोबाइल फोन से मृतका के पति को फोन कर फिरौती की 30 लाख रुपए की रकम की मांग की थी।श्रीवास्तव ने कहा कि पुलिस की जांच में यह सामने आया कि श्वेता और रोहित का वैवाहिक जीवन सुखद नहीं रहा तथा दोनों के बीच प्राय: झगड़ा होता रहता था। पांच जनवरी को भी रोहित ने श्वेता के साथ मारपीट की थी।

पुलिस के अनुसार रोहित ने पत्नी व बच्चे से छुटकारा पाकर नई जिंदगी शुरू करने के लिए अपने ही एक दोस्त हरि सिंह के साले सौरभ को ‘कांट्रेक्ट किलिंग’ का काम सौंपा। पुलिस को उलझाए रखने के लिए बच्चे के अपहरण व फिरौती की कहानी रची गई। रोहित ने इस काम के लिए सौरभ को कुछ पैसे भी दिए। इस मामले में पुलिस का एक दल हरिसिंह को लाने भेजा गया है और उससे भी पूछताछ की जाएगी।