कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए चीनी चिकित्साधिकारी
कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए चीनी चिकित्साधिकारी

बीजिंग/भाषा। कोरोना वायरस बुजुर्गों के लिए विशेष तौर पर काफी घातक साबित हो रहा है। इसकी चपेट में आने वाले 80 साल से अधिक उम्र के मरीजों की मौत की आशंका ज्यादा है। चीन में इस भयानक संक्रमण के पांव पसारने के बाद से किए गए एक सबसे बड़े अध्ययन में यह निष्कर्ष निकाला गया जिसमें करीब 44,000 मामलों का ब्योरा है।

यह अध्ययन चीनी जर्नल ऑफ एपिडेमिओलॉजी में प्रकाशित किया गया जिसमें खुलासा किया गया है कि 11 फरवरी तक 44,672 सत्यापित मामलों में से 1023 मरीजों की मौत हो गई। यह 2.3 फीसदी मृत्युदर को दर्शाता है। चीन के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस से अब तक 1,800 से अधिक लोगों की जान ले चुका है और 72,000 से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं।

‘चाइनीज सेंटर फोर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ के चिकित्सकों के अनुसार, ज्यादातर मरीज (77.8 फीसद) 30-69 साल के उम्र के हैं, पुरुष 51.4 प्रतिशत, किसान या श्रमिक 22 प्रतिशत हैं। अध्ययन में कहा गया है कि अन्य सभी उम्र वर्गों की तुलना में 80 साल या उससे अधिक उम्र के मरीजों की मौत की आशंका अधिक है और उनमें मृत्युदर 15 फीसद है।

अध्ययन के अनुसार इस संक्रमण के पुरुष मरीजों में मृत्युदर 2.8 फीसद और महिलाओं में 1.7 फीसदी है। पेशे के लिहाज से जो लोग सेवानिवृत हैं, उनमें मृत्युदर सबसे अधिक पांच फीसदी है।