भारतीय तोपें.. सांकेतिक चित्र
भारतीय तोपें.. सांकेतिक चित्र

सेना प्रमुख बोले- पाक के छह से 10 जवान ढेर, इतने ही आतंकवादी धराशायी

नई दिल्ली/भाषा। पाकिस्तान की ओर से अकारण की गई गोलीबारी के जवाब में भारतीय सेना ने रविवार को तोपखाने का मुंह खोलते हुए नियंत्रण रेखा पर जम्मू-कश्मीर के तंगधार सेक्टर के पास उस पार स्थित कम से कम चार आतंकी शिविरों और पाक सेना के कई ठिकानों पर भीषण हमला किया। इस कार्रवाई में पाकिस्तान के छह से 10 जवान मारे गए हैं। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने इसकी पुष्टि की है।

पहले यह सूचना थी कि भारतीय सेना की गोलाबारी में चार से पांच पाकिस्तानी जवान और इतने ही आतंकी ढेर हो गए। हालांकि देर शाम जनरल रावत ने मीडिया से बात करते हुए स्पष्ट कर दिया कि पाकिस्तान को इससे कहीं ज्यादा नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया, जिस तरह की खबर हमें मिली है, उसके मुताबिक पाकिस्तानी सेना को और जो आतंकवादी कैंप में मौजूद थे, उन्हें भारी नुकसान हुआ है। सेना प्रमुख ने कहा, छह से 10 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं। तकरीबन इतने ही आतंकवादी मारे जा चुके हैं।

सेना प्रमुख ने कहा कि आतंकवादियों के मारे जाने की खबर हमें और भी मिल रही है। कम से कम तीन आतंकवादी कैंप तबाह किए गए हैं। इसके अलावा चौथे कैंप को भी नुकसान पहुंचा है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर पाकिस्तान इस तरह की हरकत करता रहा तो हम आगे भी जवाबी कार्रवाई करने में नहीं हिचकिचाएंगे।

बता दें कि सेना ने यह जवाबी कार्रवाई ऐसे समय की है जब शनिवार शाम पाकिस्तान की गोलीबारी में भारतीय सेना के दो जवान शहीद हो गए और एक आम नागरिक मारा गया।

भारतीय सेना के एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने शनिवार शाम तंगधार सेक्टर के भारतीय क्षेत्र में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के लिए अकारण संघर्षविराम उल्लंघन शुरू किया था। अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में आतंकवादियों के लांच पैड और इन्हें सुरक्षा प्रदान करने वाली अनेक पाकिस्तानी चौकियों तथा कुछ शस्त्र स्थलों को निशाना बनाया गया।

उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान सीमा पार से आतंकी गतिविधियों में मदद देना जारी रखता है तो भारतीय सेना को अपने हिसाब के समय और जगह पर जवाब देने का अधिकार है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी ठिकानों तथा आतंकी शिविरों को निशाना बनाने की तुलना 2016 में भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक से नहीं की जानी चाहिए।