युगांडा में मोदी ने यह चुटकुला सुनाकर बताया- दूसरों से बेहतर है हिंदुस्तान की तकनीक

Narendra Modi In Uganda
Narendra Modi In Uganda

मोदी ने कहा कि शुरू में चीजें महंगी हो सकती हैं लेकिन वे दीर्घकाल तक चलेंगी। सस्ती चीजें जल्द खराब होंगी। उन्हें ठीक करने के लिए भी उसी देश से आदमी लाना पड़ेगा।

कम्पाला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अफ्रीकी देश युगांडा में बिजनेस फोरम की बैठक में एक चुटकुला सुनाकर बताया कि कैसे भारतीय मशीनें युगांडा के कल को बेहतर बना सकती हैं। यही नहीं, उन्होंने इशारों ही इशारों में सस्ती लेकिन घटिया तकनीक के नुकसान भी बताए। हालांकि मोदी ने किसी अन्य देश का नाम नहीं लिया, लेकिन सोशल मीडिया पर चर्चा है कि यह चीन की ओर संकेत था, क्योंकि चीन भी इन देशों में काफी निवेश कर रहा है। चीनी सामान की गुणवत्ता जगजाहिर है।

प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और युगांडा के बीच मानवता का रिश्ता बताया। इस मौके पर उन्होंने एक चुटकुला सुनाकर सस्ती तकनीक के खराब नतीजों की ओर इशारा किया। मोदी ने बताया कि एक बस स्टॉप पर गरीब लड़का पंखा बेच रहा था। उसके पंखे की कीमत एक रुपया थी। दूसरा एक और लड़का पंखा बेच रहा था, जिसके पंखे की कीमत आठ आने थी। तीसरा लड़का चार आने में पंखा बेच रहा था।

पढ़ें: प्रशांत किशोर के सर्वे में भी छाए मोदी, लोगों ने प्रधानमंत्री पद के लिए माना सबसे भरोसेमंद चेहरा!

एक व्यक्ति ने सस्ता देख चार आने वाला पंखा खरीद लिया। इसके बाद उसने जैसे ही तीन-चार बार उसे हिलाया, पंखा टूट गया। उस व्यक्ति ने तुरंत पंखे वाले लड़के को पकड़ा। इस पर उस लड़के ने जवाब दिया कि मैंने पंखा हिलाने को थोड़े ही कहा था। पंखा नहीं, मुंडी हिलानी थी।

इसके बाद मोदी ने कहा कि शुरू में चीजें महंगी हो सकती हैं लेकिन वे दीर्घकाल तक चलेंगी। सस्ती चीजें जल्द खराब होंगी। उन्हें ठीक करने के लिए भी उसी देश से आदमी लाना पड़ेगा। उन्होंने कहा, मैं विश्वास दिलाता हूं कि जीरो डिफेक्ट के साथ आपको मशीनें देने, तकनीक देने को तैयार हैं।

उन्होंने कहा, कोई चिल्लाएगा भी कि ये महंगा है। ये कैसी सरकार है! पहले वाला सस्ता था। इसके बाद उन्होंने कहा, आपको तय करना है कि पंखा हिलाना है या मुंडी हिलानी है। मोदी ने युगांडा की भूमि के लिए कहा, प्राकृतिक संसाधनों को बढ़ाने की कोशिश किए बिना हम आगे नहीं बढ़ सकते। युगांडा के पास हजारों एकड़ ऐसी भूमि है जहां किसी केमिकल की बूंद तक नहीं गिरी है। वहां पर पैदा होने वाली चीज के लिए दुनिया पागल हो सकती है। प्रधानमंत्री ने युगांडा यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच बे​हतर रिश्तों की उम्मीद जताई और युगांडा के ​नागरिकों की तारीफ की।

ये भी पढ़िए: 
– महागठबंधन की तीन कमजोर कड़ियां
– अर​बपति निवेशक बोले- ‘दोबारा सत्ता में आएगी भाजपा, मोदी फिर बनेंगे प्रधानमंत्री’
– आॅनलाइन आॅर्डर देकर मंगवाया सोने का सिक्का, पार्सल खोला तो होश उड़ गए!

LEAVE A REPLY

5 × four =