कैप्टन अमरिंदर सिंह
कैप्टन अमरिंदर सिंह

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उन खबरों का खंडन किया है जिनमें ऐसे कयास लगाए गए थे कि वे करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में शिरकत करेंगे। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने सोशल मीडिया पर फैलीं उन खबरों को भी खारिज किया जिनमें ऐसी संभावना जताई गई थी कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह उक्त समारोह में शामिल हो सकते हैं। अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘मुझे लगता है कि डॉ. मनमोहन सिंह भी वहां नहीं जाएंगे।

गौरतलब है कि अमरिंदर सिंह का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तान ने कहा कि वह डॉ. मनमोहन सिंह को ​निमंत्रण भेजेगा। इस मामले का दूसरा पहलू यह है कि पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निमंत्रण भेजे जाने का कहीं जिक्र नहीं किया। अब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने साफ कर दिया है कि वे स्वयं इस समारोह में शामिल नहीं होंगे और डॉ. मनमोहन सिंह भी इसमें शिरकत नहीं करेंगे।

बता दें कि बुधवार को अमरिंदर सिंह राष्ट्रीय राजधानी आए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से मुलाकात की थी। उधर, सोशल मीडिया में ऐसे कयासों का दौर शुरू हो चुका था कि अमरिंदर ने डॉ. मनमोहन सिंह से अनुरोध किया कि वे करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सर्वदलीय जत्थे में शामिल हों, जो डॉ. सिंह द्वारा स्वीकार कर लिया गया। हालांकि अमरिंदर सिंह ने इन कयासों का खंडन किया। एक रिपोर्ट के अनुसार, करतारपुर के लिए पहला जत्था 9 नवंबर को रवाना होगा। लिहाजा उसी दिन पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर खोलगा। करतारपुर कॉरिडोर को गुरु नानक देव की 12 नवंबर को 550वीं जयंती से पहले खोला जाना है।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह
पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह

जब सिद्धू ने कराई किरकिरी
क्रिकेटर से राजनेता बने पंजाब कांग्रेस विधायक नवजोत सिंह सिद्धू पिछले साल अगस्त में इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में पाकिस्तान गए ​थे। उस दौरान उन्होंने पाकिस्तान और इमरान का जमकर गुणगान किया। यही नहीं, उन्होंने पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल बाजवा को गले लगाया था। इधर, भारत में सिद्धू को लेकर काफी नाराजगी व्यक्त की गई। अमरिंदर सिंह ने भी इस पर नाखुशी जाहिर की थी।

पाक की फिर एक ‘चाल’
कनाडा के एक टीवी चैनल की रिपोर्ट की मानें तो पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह का सियासी इस्तेमाल करने की फिराक में है। उसने भारतीय प्रधानमंत्री को निमंत्रण नहीं दिया, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री जो प्रमुख विपक्षी दल से जुड़े हैं, को निमंत्रण भेजे जाने की बात सार्वजनिक रूप से कर रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, यह माना जा रहा है कि डॉ. मनमोहन सिंह भी कैप्टन अमरिंदर की तरह पाक के इस रवैए पर सख्त रुख अपना सकते हैं।