श्रीनगर/भाषा। कश्मीर घाटी में रेलवे की पूर्ण सेवाओं को पुन: शुरू करने से पहले शनिवार को श्रीनगर-बनिहाल रेल मार्ग पर सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। कश्मीर में रेल सुविधाएं सुरक्षा कारणों से तीन महीने से अधिक समय से निलंबित थीं।

रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि रेल खंड पर व्यापक सुरक्षा जांच के बाद ये परीक्षण किए गए। उन्होंने कहा, श्रीनगर-बनिहाल मार्ग पर रेल सेवाएं रविवार को फिर से शुरू होंगी। सुरक्षा कारणों से निलंबित किए जाने के बाद इसे पहली बार जनता के लिए पूरी तरह बहाल किया जा रहा है।

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में संविधान के अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निरस्त करने और जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के फैसले की पांच अगस्त को घोषणा से पहले घाटी में रेल सेवाओं को तीन अगस्त से निलंबित कर दिया गया था।

इस बीच कश्मीर में स्थिति सामान्य हो रही है और शनिवार से माध्यमिक कक्षाओं के छात्रों की वार्षिक परीक्षाएं शुरू हो गईं। एक अधिकारी ने बताया कि कक्षा पांच से नौ तक की वार्षिक परीक्षा शनिवार से शुरू हुईं। परीक्षाएं सोमवार से शुरू होने वाली थीं लेकिन घाटी में भारी बर्फबारी के कारण पहले दो पेपर स्थगित कर दिए गए थे।

घाटी के बाजार में दुकानदार सुबह जल्दी दुकान खोलते हैं और दोपहर में दुकान बंद कर सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन में शामिल हो जाते हैं। उन्होंने बताया कि प्री-पेड मोबाइल फोन और सभी इंटरनेट सेवाएं अब भी निलंबित हैं।

केंद्र सरकार के 5 अगस्त के फैसले के मद्देनजर तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला समेत कई नेता अब भी हिरासत में हैं। फारूक अब्दुल्ला पर पिछले महीने लोक सुरक्षा कानून के तहत मामला दर्ज किया गया था।