'मेट्रो सेवा को नहीं हो रहा कोई नुकसान...', शिवकुमार ने क्यों​ किया 'शक्ति योजना' का जिक्र?

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 'शक्ति योजना' ने लाखों महिलाओं को लाभान्वित किया है

'मेट्रो सेवा को नहीं हो रहा कोई नुकसान...', शिवकुमार ने क्यों​ किया 'शक्ति योजना' का जिक्र?

Photo: DKShivakumar.official FB page

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार ने 'शक्ति योजना' के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी का जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि तथ्यों या जमीनी हकीकत का संज्ञान लिए बिना, प्रधानमंत्री द्वारा कर्नाटक सरकार की 'शक्ति योजना' को बदनाम करना स्तब्ध करने वाला है।

उपमुख्यमंत्री ने उक्त कथन का बिंदुवार जवाब देते हुए कहा कि 'शक्ति योजना' ने पहले ही लाखों महिलाओं को लाभान्वित कर दिया है। हर दिन उनकी यात्रा जरूरतों को निःशुल्क पूरा करके ऐसा करना जारी रखा है।

डीके शिवकुमार ने कहा कि इस योजना में कोई प्रदूषण नहीं हो रहा है और मेट्रो सेवा को कोई नुकसान भी नहीं हो रहा है। वास्तव में मेट्रो का मुनाफा 30 प्रतिशत बढ़ गया है और यह वर्तमान में 130 करोड़ रुपए है।

डीके शिवकुमार ने कहा कि मुझे आशा है कि प्रधानमंत्री को पता है कि मेट्रो सेवा केवल बेंगलूरु में है, लेकिन हमारी 'शक्ति योजना' से पूरे कर्नाटक को लाभ होता है, इसलिए मेट्रो को नुकसान या लाभ का सवाल यहां बेमानी हो जाता है।

डीके शिवकुमार ने कहा कि कर्नाटक सरकार ने पहले ही राज्यभर के बेड़े में 1,000 से ज्यादा बसें शामिल कर ली हैं तथा आने वाले समय में और बसें जोड़ी जाएंगी।

डीके शिवकुमार ने कहा कि कर्नाटक की 'ना नायकी' हमारी पहल से बहुत खुश हैं। हम उन्हें सर्वोत्तम इरादे से सेवा देना जारी रखेंगे, जैसा कि हमने अपनी 5 गारंटियों में वादा किया था।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जमीन से जुड़ाव जरूरी जमीन से जुड़ाव जरूरी
कम-से-कम अगले लोकसभा चुनाव तक तो इनकी चर्चा जारी रहेगी
'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.