नई तकनीक का इस्तेमाल नए युग के सुधारों का अभिन्न अंग होना चाहिए: डॉ. जितेंद्र सिंह

डॉ. सिंह ने कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के विभागों के लिए समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की

नई तकनीक का इस्तेमाल नए युग के सुधारों का अभिन्न अंग होना चाहिए: डॉ. जितेंद्र सिंह

'प्रशिक्षण संरचनाओं और कार्यप्रणाली में सुधार करना हमारी प्राथमिकता'

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने गुरुवार को कहा कि प्रशासनिक सुधारों में बुजुर्ग नागरिकों और पेंशनभोगियों सहित नागरिकों के डिजिटल सशक्तीकरण को शामिल किया जाएगा।

उन्होंने डीओपीटी, डीएआरपीजी और डीओपीपीडब्ल्यू की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'न्यूनतम सरकार अधिकतम प्रशासन' का दृष्टिकोण और उनके नेतृत्व में मंत्रालय पिछले दशक में शुरू किए गए सुधारों को जारी रखेगा।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार द्वारा शुरू किए गए सुधारों के केंद्र में नागरिक हैं। कुशल सार्वजनिक सेवा वितरण सुनिश्चित करके डिजिटल शासन को बढ़ाकर नागरिकों का कल्याण करने के संकल्प को सुनिश्चित करते हुए जीवन में आसानी लाना है।

jitendra singh2

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे भर्ती नियमों और सेवा नियमों की बहुलता को तर्कसंगत बनाने की दिशा में काम करने और इसे भविष्य के लिए तैयार करने के लिए डिजिटल तकनीक को शामिल करें। उन्होंने सरकारी विभागों की दक्षता बढ़ाने के लिए जोर देते हुए कहा कि सरकारी कर्मचारियों के प्रदर्शन को अनुकूलित करने के लिए सुधारों को जारी रखना और प्रशिक्षण संरचनाओं और कार्यप्रणाली में सुधार करना हमारी प्राथमिकता है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि जनरल एआई, मशीन लर्निंग, ऑगमेंटेड रियलिटी / वर्चुअल रियलिटी जैसी नई तकनीक का इस्तेमाल हमारे नए युग के सुधारों का एक अभिन्न अंग होना चाहिए। 

बैठक में कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की सचिव एस राधा चौहान और प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग एवं पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग के सचिव वी श्रीनिवास के साथ तीनों विभागों के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News