भारतीय वैज्ञानिकों ने समुद्र मे के पानी में लाखों टन के कीमती खनिज ढूंढा

भारतीय वैज्ञानिकों ने समुद्र मे के पानी में लाखों टन के कीमती खनिज ढूंढा

दिल्ली। जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि भारतीय प्रायद्वीपों के पानी में लाखों टन के कीमती खनिज और धातु है। वैज्ञानिकों ने पहली बार मंगलुरु, चेन्नई, मन्नार बेसीन, अंडमान और निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के आस-पास 2014 में इन धातुओं का पता लगाया था। वैज्ञानिकों के अनुसार, इन भूगर्भिकों के पास लाइम मड, फोसफेट और हाइड्रोकार्बन्स जैसे कीमती धातु हो सकते हैं। तीन साल बाद जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) के वैज्ञानिकों ने 181,025 वर्ग किमी का हाई रेजॉल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और भारतीय इकोनॉमिक जॉन के भीतर 10 हजार मिलियन टन से भी ज्यादा लाइम मड होने की संभावना है। मंगलुरु और चेन्नई कोस्ट में बड़ी मात्रा में फास्फेट है वैज्ञानिकों ने सुनिश्चित किया है कि मंगलुरु और चेन्नई कोस्ट में बड़ी मात्रा में फास्फेट है। वहीं तमिलनाडु के मन्नार बेसीन कोस्ट में गैस हाइड्रैट है। वैज्ञानिकों के अनुसार अंडमान सागर में मैगनिज और लक्षद्वीप के आसपास माइक्रो-मैगनिज नोड्यूल है। अत्याधुनिक अनुसंधान जहाजों से रही है रिसर्च समुद्रों की गहराई में खनिजों पर रिसर्च करने के लिए तीन अत्याधुनिक अनुसंधान जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौसतुभ और समुद्र सौदीकामा इस पर काम कर रही है। जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों की एक बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

धरती की परवाह किसे? धरती की परवाह किसे?
कंक्रीटीकरण और आर्द्रता का स्तर बढ़ने से भारत के महानगरों में गर्मी बढ़ रही है
'भारतीय भाषाएं और एक भाषायी क्षेत्र के रूप में भारत' विषय पर सम्मेलन का उद्घाटन किया
मैसूरु: दपरे महाप्रबंधक ने मैसूरु रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्यों का निरीक्षण किया
राहुल गांधी 4 जून को ईवीएम पर ठीकरा फोड़ेंगे, 6 जून को छुट्टी मनाने थाईलैंड चले जाएंगे: शाह
प्रज्ज्वल मामला: सीएन अश्वत्थ नारायण बोले- इस एसआईटी से सच्चाई सामने लाने की उम्मीद नहीं
तृणकां और इंडि जमात वाले बंगाल को विपरीत दिशा में लेकर जा रहे हैं: मोदी
अंतरिम जमानत की अवधि बढ़ाने के अनुरोध पर केजरीवाल को लगा झटका