रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?

ईरानी संविधान के अनुच्छेद 131 के आधार पर मोखबर कार्यकारी शक्ति के प्रबंधन का पद संभालेंगे

रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?

फोटो: Tehran Times के प्रथम पृष्ठ पर छपी तस्वीर। अख़बार ने इसके साथ लिखा है कि 'ईरान मजबूती से खड़ा है।'

तेहरान/दक्षिण भारत। ईरान के प्रथम उपराष्ट्रपति मोहम्मद मोखबर ने राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत के बाद अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभाल लिया है।

रईसी, विदेश मंत्री होसैन अमीर अब्दुल्लाहियन, पूर्वी अज़रबैजान प्रांत के गवर्नर और प्रांत में नेता के प्रतिनिधि रविवार दोपहर एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मारे गए थे।

मोखबर 50 दिनों के भीतर नए राष्ट्रपति का चुनाव होने तक पद पर बने रहेंगे। उन्होंने कहा है कि सरकार दिवंगत राष्ट्रपति की नीतियों को जारी रखेगी।

राष्ट्रपति रईसी के निधन पर सोमवार को एक शोक संदेश में ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई ने कहा, 'संविधान के अनुच्छेद 131 के आधार पर मोखबर कार्यकारी शक्ति के प्रबंधन का पद संभालेंगे और उन्हें न्यायिक और विधायी शक्तियों के प्रमुखों के साथ अधिकतम 50 दिनों के भीतर नए राष्ट्रपति का चुनाव कराने के लिए व्यवस्था करने का काम सौंपा गया है।'

साल 1979 में अपनाए गए ईरान के संविधान के पहले संस्करण के अनुच्छेद 130 और 131 के अनुसार, यदि राष्ट्रपति बर्खास्तगी, इस्तीफे, अनुपस्थिति, बीमारी या मौत के कारण अपने कानूनी कर्तव्यों को पूरा करने में असमर्थ है, तो प्रथम उपराष्ट्रपति उनके कर्तव्य निभाएंगे।

ईरानी संविधान में कहा गया है कि ये जिम्मेदारियां सर्वोच्च नेता की मंजूरी के साथ प्रथम उपराष्ट्रपति को हस्तांतरित की जाती हैं और 50 दिनों में देश को नए राष्ट्रपति का चुनाव करने के लिए चुनाव में जाना होता है।

सोमवार को कैबिनेट को संबोधित करते हुए मोखबर ने राष्ट्रपति रईसी की मौत को एक बड़ी दुखद घटना बताया। उन्होंने यह भी कहा कि इमाम खुमैनी और अयातुल्ला अली खामेनेई के नेतृत्व के कारण गणतंत्र प्रणाली इस हद तक स्थिरता तक पहुंच गई है कि ऐसी घटनाएं देश पर शासन करने में समस्या पैदा नहीं कर सकती हैं। 

मोखबर ने राष्ट्रपति की मौत के बाद सौंपे गए कर्तव्यों का आकलन करने के लिए सोमवार सुबह संसद अध्यक्ष मोहम्मद बाघेर गालिबफ और न्यायपालिका प्रमुख मोहसेनी ईजेई के साथ एक बैठक की भी मेजबानी की। गालिबफ और ईजेई ने अंतरिम राष्ट्रपति के साथ अपने कर्तव्यों को पूरा करने में पूरा सहयोग करने का वादा किया।

मोखबर ने कहा कि इस्लामी क्रांति के नेता और ईरानी राष्ट्र को 'आश्वस्त महसूस करना चाहिए कि हमारा रास्ता लोकप्रिय राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का रास्ता है और लोगों की सेवा करना बंद नहीं किया जाएगा।

साल 2021 में प्रथम उपराष्ट्रपति बनने से पहले जब रईसी राष्ट्रपति चुने गए थे, मोखबर ने सेताद इजराई फ़रमाने हज़रते इमाम (इमाम के आदेश को निष्पादित करने के लिए मुख्यालय) के प्रमुख के रूप में कार्य किया था, जो इमाम खुमैनी द्वारा जारी आदेश के तहत स्थापित एक निवेश कोष है। इसका मुख्य कर्तव्य गरीबों की मदद करना है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है' 'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
राजभाषा के प्रयोग-प्रसार एवं कार्यान्वयन से संबंधित उपलब्धियों को प्रदर्शित करने वाली प्रदर्शनी भी लगाई गई
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.
मोदी के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय मंच पर शानदार प्रदर्शन कर रहा भारत, कांग्रेस को हो रही ईर्ष्या: भाजपा