प्रयागराज कुंभ: राम मंदिर के लिए साधु का कठोर संकल्प, चार साल से एक पैर पर खड़े

प्रयागराज कुंभ: राम मंदिर के लिए साधु का कठोर संकल्प, चार साल से एक पैर पर खड़े

प्रयागराज/दक्षिण भारत डेस्क। प्रयागराज कुंभ मेले में कई साधु-महात्माओं ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए संकल्प ले रखा है। यहां एक ऐसे संत भी चर्चा में हैं जो पिछले करीब चार वर्षों से एक ही पैर पर खड़े हैं। उनका दावा है कि इस दौरान वे न तो बैठे और न ही लेटे हैं। उन्होंने यह समय खड़े-खड़े ही बिताया है।

खड़ेश्ववरी बाबा के नाम से मशहूर इन संत के दर्शन के लिए दूर-दूर से लोग आ रहे हैं। ये इसी अवस्था में लोगों को आशीर्वाद देते हैं और फिर अपनी साधना में लीन हो जाते हैं। खड़ेश्वरी बाबा का संकल्प है कि अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बनना चाहिए। इसके लिए वे निरंतर तपस्या कर रहे हैं। उन्होंने गाजियाबाद में भगवान शिव के मंदिर के लिए भी संकल्प किया है।

खड़ेश्वरी बाबा का कहना है कि वे खड़े-खड़े ही भगवान का पूजन करते हैं। इसी अवस्था में प्रवचन करते हैं। कैसा भी मौसम क्यों न हो, वे रात को एक पैर पर ही खड़े रहते हैं। जानकारी के अनुसार, इन संत का नाम रूपगिरि महाराज है। जूना अखाड़े से ताल्लुक रखने वाले इन साधु ने अपने संकल्प के लिए अन्न भी त्याग दिया है। वे सिर्फ हल्का फलाहार लेते हैं और फिर तपस्या में लीन हो जाते हैं।

खड़ेश्वरी बाबा को दृढ़ विश्वास है कि अयोध्या में भगवान राम का मंदिर बनेगा और उनका संकल्प पूरा होगा। तब तक वे इसी तरह एक पैर पर खड़े रहेंगे और अन्न का सेवन नहीं करेंगे। खड़ेश्वरी बाबा झूले जैसी एक आकृति का सहारा लेते हैं, ताकि शरीर का संतुलन बना रहे। वे दाएं हाथ में एक माला रखते हैं, जिससे राम नाम का जाप करते रहते हैं। संकल्प के अनुसार, यह जाप राम मंदिर निर्माण तक चलता रहेगा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List