आनंद को मिली करारी हार

आनंद को मिली करारी हार

विज्क आन जी (नीदरलैंड)। भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद की टाटा स्टील मास्टर्स शतरंज टूर्नामेंट में रिकार्ड छठे खिताब की उम्मीद को सातवें दौर में रूस के व्लादिमीर क्रैमनिक के हाथों मिली हार से करारा झटका लगा।अभी तक आनंद अच्छा खेल रहे थे लेकिन क्रैमनिक के खिलाफ मुश्किल और पेचीदा परिस्थिति में पहुंच गए। भारतीय खिला़डी द्वारा अपनायी गई इटैलियन ओपनिंग काफी पेचीदा बन गई जिसमें उन्होंने अपने बादशाह को बोर्ड के बीच में पहुंचा दिया और वह खतरे में प़ड गए। क्रैमनिक ने चतुराई भरी चाल चली और ३६ चाल में जीत दर्ज की।आनंद इस हार से बीती रात के संयुक्त दूसरे स्थान से संयुक्त छठे स्थान पर खिसक गए। अजरबेजान के शखरियार मामेदयारोव ने टूर्नामेंट में लगातार तीसरी जीत से ब़ढत पूरे एक अंक की कर ली। उन्होंने चीन के वेई यि को पराजित किया। शीर्ष वरीय मैग्नस कार्लसन ने लंबी बाजी के बाद चीन की यिफान होऊ के खिलाफ पूरे अंक जुटाए जो सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग की महिला खिला़डी हैं। छह दौर और खेले जाने हैं और मामेदयारोव सात में से ५.५ अंक से शीर्ष पर हैं। उनके बाद हालैंड के अनीश गिरी, अमेरिका के वेस्ले सो, कार्लसन और क्रैमनिक सभी के ४.५ अंक हैं। मास्टर्स में अन्य भारतीयों में बी अधिबान ने रूस के मैक्सिम माटलाकोव से ड्रा खेला, उनके १.५ अंक हैं। अधिबान को चार हार मिली हैं और अभी तक उन्होंने तीन में ड्रा खेला है। चैलेंजर्स वर्ग में ग्रैंडमास्टर विदित गुजराती ने हालैंड के लुकास वैन फोरीस्ट से अंक बांटे। इस भारतीय के पूरे पांच अंक हो गए हैं और वह यूक्रेन के एंटन कोरोबोव से पूरे एक अंक से पिछ़ड रहे हैं।डी हरिका को जर्मनी के माथियास ब्लूबॉम से हार का मुंह देखना प़डा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

कर्नाटक सरकार राज्य के अंदर और बाहर कन्नडिगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: बोम्मई कर्नाटक सरकार राज्य के अंदर और बाहर कन्नडिगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: बोम्मई
यहां पत्रकारों से बात करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों राज्यों के लोगों के बीच सद्भाव है
अफगानिस्तान: सड़क किनारे बम धमाका कर पेट्रोलियम कंपनी के 7 कर्मचारियों को बस समेत उड़ाया
भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, विश्व बैंक ने वृद्धि दर अनुमान इतना बढ़ाया
सीमा विवाद: महाराष्ट्र के मंत्रियों के बेलगावी जाने की संभावना नहीं!
बाबरी विध्वंस के तीन दशक बाद अब क्या कहते हैं अयोध्या के लोग?
जनता की प्रतिक्रिया
गुजरात और हिप्र के एग्जिट पोल: भाजपा की सत्ता जारी या कांग्रेस की बारी?