जागरूकता की कमी और असावधानी से बढ़ी दिव्यांगता : मुख्यमंत्री आदित्यनाथ

जागरूकता की कमी और असावधानी से बढ़ी दिव्यांगता : मुख्यमंत्री आदित्यनाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने व्यापक जन जागरूकता की कमी और असावधानी को भी ब़ढती दिव्यांगता का कारण बताते हुए रविवार को कहा कि अगर समय से टीकाकरण कराया जाए तो ब़डी संख्या में बच्चों को पोलियो से बचाया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने विश्व दिव्यांग दिवस पर यहां आयोजित राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह में कहा कि बहुत से ऐसे मानवीय कारण हैं, जिनके कारण दिव्यांगता ब़ढी है। समय पर टीकाकरण करायें तो बहुत से बच्चों को पोलियोग्रस्त होने से रोका जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘जब हम सावधानी नहीं बरतते, तब सरकार की योजनाओं को आम जनता तक पहुचाने के व्यापक जागरूकता अभियान का हिस्सा नहीं बन पाते तो एक प्रतिभा दिव्यांगता की चपेट में आकर जीवन के लिए जूझती है। समाज की संवेदना उसके साथ होनी चाहिए। इस समस्या के समाधान की दिशा में हमारे स्तर पर भी बेहतर प्रयास होना चाहिए।’’ योगी ने कहा कि जिन दिव्यांगजनों ने थो़डा भी प्रयास किया, तो दिव्यांगता उनके जीवन की सफलता को कभी बाधित नहीं कर पायी। अरुणिमा सिन्हा ने एक कृत्रिम पैर के सहारे एवरेस्ट को फतह किया, वहीं युवा आईएएस अधिकारी सुहास एल. वाई ने पिछले दिनों बीजिंग में एशियन पैराबैडमिंटन में स्वर्ण पदक प्राप्त किया। जहां लोगों ने दिव्यांगता को चुनौती मानते हुए उसका सामना किया, उन्हें सफलता मिली। जो लोग उसे अभिशाप मानकर चुपचाप बैठ गए, तो सामाजिक विषमता की तरह ही विकलांगता भी उनके जीवन में बाधा बन जाती है। उन्होंने कहा कि जिस तरह महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए काम हुआ जिन्होंने आगे ब़ढकर चुनौती की तरह लेकर उसका मुकाबला किया, वे सफल हुईं, जहां लोग नियति का खेल मानकर चुप बैठे उनके लिए यह अभिशाप बन गया। हमें किसी भी बुराई को अभिशाप नहीं बनने देना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय मान्यता है कि इस धरती पर कोई व्यक्ति अयोग्य नहीं हो सकता है। सरकार और इस क्षेत्र में काम करने वाले संगठन अगर एक योजक के रूप में काम शुरू करें तो हरेक व्यक्ति की प्रतिभा का लाभ समाज और देश को प्रदान किया जा सकता है।उन्होंने कहा कि सभी धर्मों में सेवा को परम धर्म के रूप में मानते हुए उसे सर्वोच्च स्थान दिया गया है। सेवा का कोई विकल्प नहीं हो सकता और ना ही सौदेबाजी हो सकती है। जब हम सेवा को निष्काम भाव के साथ पात्रों तक पहुंचाते हैं तो हम पुण्य के भागी बनते हैं। वह कार्य परमार्थ होता है। जब हम सेवा के साथ व्यापार करने लगते हैं तो वह व्यक्ति के लिए परमार्थ का विषय ना होकर उसके पतन का कारण बनता है। योगी ने कहा कि प्रदेश के दिव्यांग कल्याण विभाग ने बेहतर प्रयास किये हैं। उनकी सरकार ने दिव्यांगों की पेंशन ३०० से ब़ढाकर ५०० रुपए प्रतिमाह किया है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News