लोकसभा से निष्कासन के फैसले पर क्या बोलीं महुआ मोइत्रा?

उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष को झुकने के लिए मजबूर करने के वास्ते सरकार द्वारा संसदीय पैनल को हथियार बनाया जा रहा है

लोकसभा से निष्कासन के फैसले पर क्या बोलीं महुआ मोइत्रा?

Photo: facebook.com/MahuaMoitraOfficial

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। तृणमूल कांग्रेस नेत्री महुआ मोइत्रा ने शुक्रवार को लोकसभा से अपने निष्कासन की तुलना 'कंगारू अदालत' द्वारा दी गई फांसी से की। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष को झुकने के लिए मजबूर करने के वास्ते सरकार द्वारा संसदीय पैनल को हथियार बनाया जा रहा है।

लोकसभा सदस्य के रूप में अपने निष्कासन के कुछ मिनट बाद मोइत्रा ने कहा कि उन्हें ऐसी आचार संहिता का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है, जो मौजूद नहीं है। तृणमूल नेत्री ने दावा किया कि उन्हें दी गई नकदी या उपहार का कोई सबूत नहीं है।

बता दें कि लोकसभा की आचार समिति ने 'कैश-फॉर-क्वेरी' मामले में उन्हें निष्कासित करने की सिफारिश की थी।

रिपोर्ट शुक्रवार दोपहर सदन में पेश की गई। बाद में सरकार ने उन्हें सदन से निष्कासित करने की मांग करते हुए एक प्रस्ताव पेश किया और कहा कि एक सांसद के रूप में उनका बने रहना 'अतर्कसंगत' हो गया है।

उन्होंने कहा कि दो शिकायतकर्ताओं में से एक तो गलत इरादे से उनका अलग हुआ साथी था। 

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा