टीम इंडिया बना सकती है नया रिकार्ड

टीम इंडिया बना सकती है नया रिकार्ड

नई दिल्ली। भारत दक्षिण अफ्रीका दौरे में तीन मैचों की सीरी़ज में ०-२ से पिछ़डकर सीरी़ज गंवा चुका है लेकिन वह जोहानसबर्ग में २४ जनवरी से होने वाले तीसरे और अंतिम टेस्ट में एक अनूठा रिकार्ड बना सकता है।भारत इस दौरे में अपनी १७ सदस्यीय टीम में मुख्य विकेटकीपर के रूप में रिद्धिमान साहा को और बैकअप विकेटकीपर के रूप में पार्थिव पटेल को लेकर गया था। साहा केपटाउन में पहले टेस्ट के बाद चोटिल हो गए और उन्हें सेंचुरियन के दूसरे टेस्ट से हटना प़डा। सेंचुरियन में दूसरा टेस्ट समाप्त होने से पहले ही भारतीय टीम प्रबंधन ने विकेटकीपर दिनेश कार्तिक को दक्षिण अफ्रीका का बुलावा दे दिया जबकि सेंचुरियन में साहा की जगह पटेल विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। पटेल का दूसरे टेस्ट में विकेट के पीछे दस्तानों के साथ और विकेट के आगे बल्ले के साथ प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था। इस बात की पूरी संभावना है कि पटेल जोहानसबर्ग में होने वाले तीसरे टेस्ट में बाहर बैठेंगे और उनकी जगह कार्तिक को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभालने का मौका मिलेगा। भारतीय क्रिकेट के इतिहास में संभवत: यह पहला मौका होगा जब तीन टेस्टों की सीरी़ज में तीन अलग-अलग विकेटकीपर तीन मैचों में कीपिंग की जिम्मेदारी संभालेंगे। विश्व क्रिकेट के इतिहास में भी यह एक अभूतपूर्व मौका होगा। वर्ष १९५९-६० में ऐसा ही एक मौका आया था जब इंग्लैंड की टीम ने वेस्टइंडी़ज के दौरे में दो विकेटकीपर रखे थे। इनमें से एक विकेटकीपर की फार्म खराब रही और दूसरा विकेटकीपर बीमार प़ड गया। इस स्थिति में आपात विकल्प के तौर पर जिम पार्क्स को अंतिम टेस्ट में खेलाया गया जिन्होंने उस मैच में १०१ रन ठोके। भारतीय टेस्ट इतिहास में १९३२ से अब तक ३५ विकेटकीपरों ने विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाली है। मौजूदा दौरे के तीन कीपरों में पार्थिव पटेल ने २००२ में और कार्तिक ने २००४ में अपना टेस्ट पदार्पण किया था। लेकिन २००५ में महेंद्र सिंह धोनी के पदार्पण के बाद से अगले नौ साल तक कोई अन्य विकेटकीपर उन्हें चुनौती नही दे पाया। धोनी ने सर्वाधिक ९० मैचों में भारतीय विकेटकीपर की जिम्मेदारी संभाली। साहा ने २०१२ में अपना पदार्पण किया था और धोनी के संन्यास के बाद वह टीम इंडिया के पूर्णकालिक विकेटकीपर बन गए। इस बीच २०१५ में नमन ओझा ने एक मैच में विकेटकीपिंग की। साहा ने केपटाउन के पहले टेस्ट में विकेट के पीछे १० शिकार कर धोनी का रिकार्ड तो़डा लेकिन बल्ले से उनका प्रदर्शन खासा निराशाजनक रहा। बंगाल के साहा को दूसरे टेस्ट में हटाया गया और इसके पीछे उनकी चोट का कारण बताया गया। पटेल ने साहा की जगह संभाली लेकिन विकेट के पीछे उन्होंने कुछ ढिलाई दिखायी जो भारत को इस टेस्ट में भारी प़डी और यह उनके तीसरे टेस्ट से बाहर होने की वजह भी बन सकता है। पटेल ने २००२ से अब तक २४ टेस्टों में कीपिंग की है जबकि कार्तिक ने २००४ से अब तक १६ टेस्टों में और साहा ने २०१२ से अब तक ३२ टेस्टों में कीपिंग की जिम्मेदारी संभाली है। भारत के पहले विकेटकीपर जनार्दन नावले थे जिन्होंने दो टेस्टों में कीपिंग की थी। इसके बाद भारत के प्रसिद्ध विकेटकीपरों में नरेन तम्हाने ने २१ टेस्ट, बुधी कुंदरन ने १५ टेस्ट, फारूख इंजीनियर ने ४६ टेस्ट, सैयद किरमानी ने ८८ टेस्ट, किरण मोरे ने ४९ टेस्ट और नयन मोंगिया ने ४४ टेस्टों में कीपिंग की है। मौजूदा चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद ने छह टेस्टों में कीपिंग की जिम्मेदारी संभाली थी।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List