ट्रेन में गोलीबारी की घटना की जांच के लिए मुंबई पहुंचे उच्च स्तरीय समिति के सदस्य

अन्य यात्रियों द्वारा जंजीर खींचे जाने पर मीरा रोड के पास ट्रेन रुकने के बाद आरोपी ने भागने की कोशिश की, लेकिन उसे पकड़ लिया गया

ट्रेन में गोलीबारी की घटना की जांच के लिए मुंबई पहुंचे उच्च स्तरीय समिति के सदस्य

इस घटना में मारे गए यात्रियों के लिए 10-10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि की घोषणा की गई है

मुंबई/भाषा। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के एक कांस्टेबल द्वारा ट्रेन में चार लोगों की कथित रूप से गोली मारकर हत्या किए जाने की घटना की जांच के लिए गठित एक उच्च स्तरीय समिति के सदस्य यहां पहुंच गए हैं और उनके मंगलवार को संबंधित अधिकारियों से मुलाकात करने की संभावना है।

इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने जयपुर-मुंबई सेंट्रल एक्सप्रेस में सोमवार को हुई घटना की व्यापक स्तर पर जांच करने के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन किया है।

अधिकारियों ने बताया कि कांस्टेबल चेतन सिंह (34) ने पालघर रेलवे स्टेशन के पास अपने स्वचालित हथियार से आरपीएफ के सहायक उपनिरीक्षक टीकाराम मीणा और तीन अन्य यात्रियों की गोली मारकर हत्या कर दी।

जांच समिति में पश्चिम रेलवे और मध्य रेलवे के प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त, उत्तर पश्चिम रेलवे के प्रधान मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक, उत्तर मध्य रेलवे के प्रधान मुख्य चिकित्सा निदेशक और पश्चिम मध्य रेलवे के प्रधान मुख्य कार्मिक अधिकारी शामिल हैं।

अधिकारियों ने बताया कि समिति से इस मामले में रेलवे बोर्ड को अगले तीन महीने में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है।

अन्य यात्रियों द्वारा जंजीर खींचे जाने पर मीरा रोड के पास ट्रेन रुकने के बाद आरोपी ने भागने की कोशिश की, लेकिन उसे पकड़ लिया गया।

पश्चिम रेलवे ने एक बयान में कहा, इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में मारे गए यात्रियों के लिए 10-10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि की घोषणा की गई है। सहायक उपनिरीक्षक टीकाराम के परिवार को सेवा नियमों के अनुसार बकाया दिया जाएगा।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस