सम्मान के लिए विराट एंड कंपनी करेगी जंग

सम्मान के लिए विराट एंड कंपनी करेगी जंग

जोहानसबर्ग। अपनी कम तैयारी और अफ्रीकी पिच पर खिलाि़डयों की लगातार गलतियों के कारण सीरी़ज गंवाने के बाद दुनिया की नंबर एक भारतीय टेस्ट टीम बुधवार से शुरू होने जा रहे आखिरी टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विजयी रहकर सम्मान बचाने उतरेगी।भारत ने कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में घरेलू मैदान पर जबरदस्त प्रदर्शन किया और लगातार नौ टेस्ट सीरी़ज जीतने के ऑस्ट्रेलियाई टीम के विश्व रिकार्ड की बराबरी भी की लेकिन दक्षिण अफ्रीका के चुनौतीपूर्ण दौरे में वह अपवाद साबित नहीं हो सकी। भारत तीन टेस्टों की सीरी़ज को ०-२ से गंवा चुका है और आखिरी मैच उसे अपनी गलती सुधारने का मौका दे सकता है। सीरी़ज के पिछले दो मैचों में खिलाि़डयों, खासकर बल्लेबा़जों ने रन आउट होने से लेकर कैच टपकाने जैसी कई गलतियां कीं तो कप्तान विराट का मैदान पर आक्रामक रूप फिर से बाहर निकल आया और उन्हें आईसीसी के नियमानुसार पहली बार डी-मेरिट अंक और जुर्माना तक भुगतना प़डा है। ऐसे में टीम इंडिया भी हर हाल में वंडरर्स में जीत के साथ अपना सम्मान बचाना चाहेगी। दक्षिण अफ्रीकी टीम भले ही ३-० से क्लीन स्वीप का सपना देख रही हो लेकिन इस मैदान पर उसका पिछला रिकार्ड काफी खराब रहा है जबकि मेहमान टीम ने दक्षिण अफ्रीका में अपनी एकमात्र सफलता वंडरर्स में ही २००६ में देखी थी जब उसने १२३ रन से मैच जीता। इसके अलावा एक ड्रा मैच भी उसने इसी मैदान पर दिसंबर २०१३ में यहां खेला है। वंडरर्स की पिच को भी ते़ज गेंदबा़जों के लिए अहम माना जाता है और पिछले मैचों में सफल रहे मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव के रूप में उसके पास अच्छे ते़ज गेंदबा़ज हैं।भुवनेश्वर को सेंचुरियन में बाहर बैठाया गया था लेकिन वंडरर्स में माना जा रहा है कि वह वापसी को तैयार हैं। भुवी ने एक ही मैच में छह विकेट लिए हैं। वहीं टीम के अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने भी अफ्रीका की उछाल भरी पिचों पर कमाल दिखाया है और दो मैचों में ३०.७१ के औसत से सात विकेट निकाले हैं। बुमराह के खाते में भी इतने ही विकेट हैं जबकि शमी ते़ज गेंदबा़जों में सबसे सफल हैं जिन्होंने २०.२२ के औसत से नौ विकेट हासिल किए हैं। यदि टीम पांच गेंदबा़जों के साथ उतरने पर विचार करती है तो ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को बेंच पर बैठाया जा सकता है। हालांकि अश्विन निचले क्रम पर अच्छे बल्लेबा़ज साबित होते हैं और पिछले दो मैचों में उन्होंने ९० रन का योगदान भी दिया है। भारतीय ते़ज गेंदबा़जों ने जहां अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया है तो बल्लेबा़जों ने सबसे अधिक निराश किया है। टीम के टेस्ट विशेषज्ञ बल्लेबा़ज चेतेश्वर पुजारा की २६ रन और मुरली विजय की ४६ रन की दो सर्वश्रेष्ठ पारियां रही हैं। वहीं पुजारा का दोनों मैचों में रनआउट होना भी चिंता का विषय रहा है। टीम के कोच रवि शास्त्री ने मैच से पूर्व कहा है कि बल्लेबा़जों को रनआउट नहीं होने पर ध्यान देने और फील्डिंग सुधारने पर जोर देने के लिए कहा गया है वहीं उन्होंने सीरी़ज से पूर्व तैयारी की कमी को भी हार की वजह बताया। टीम के पास विराट, रोहित शर्मा, मुरली विजय, शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा, लोकेश राहुल जैसे कमाल के बल्लेबा़ज हैं तो निचले क्रम में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या, अश्विन और भुवनेश्वर भी अच्छे स्कोरर हैं। लेकिन उसकी बल्लेबाजी ही सबसे कमजोर साबित हुई है। टीम की विराट पर निर्भरता साफ दिखाई दे रही है। पिछले मैच की पहली पारी में विराट ने १५३ रन बनाए थे। हालांकि दूसरी पारी में वह पांच रन ही बना सके और बाकी बल्लेबा़जों ने उनका कोई साथ नहीं दिया।विराट (१९१) और पांड्या(११५) के अलावा बाकी किसी खिला़डी ने दो मैचों की चार पारियों में कुल १०० रन का आंक़डा भी नहीं छुआ है जो फिलहाल बल्लेबाजी क्रम की सबसे ब़डी चिंता है। मुरली पिछले दोनों मैचों में एक अर्धशतक भी नहीं बना सके हैं तो लोकेश ने एक मैच में १० और ०४ रन की पारियां खेलीं। पुजारा ने अब तक २६, ०४, ०० और ०९ रन की बेहद निराशाजनक पारियां खेली हैं। मध्यक्रम में रोहित भी अपनी घरेलू फार्म को विदेशी जमीन पर कायम नहीं रख सके हैं। उन्होंने अब तक १९.५० के औसत से ७८ रन बनाए हैं जिसमें ४७ रन उनकी ब़डी पारी है। ऐसे में बल्लेबाजी क्रम को मजबूत करने के लिए अब बेंच पर बैठे अजिंक्या रहाणे को एकादश में शामिल किए जाने के संकेत हैं। हालांकि रहाणे का श्रीलंका के खिलाफ आखिरी टेस्ट सीरी़ज में प्रदर्शन खराब रहा था और उन्होंने कोलकाता, नागपुर तथा दिल्ली टेस्ट में एक पारी में २० रन तक नहीं बनाए। कप्तान विराट को हालांकि रहाणे को बाहर बैठाने पर कई सवालेां का सामना करना प़डा है ऐसे में यदि वह अंतिम एकादश का हिस्सा बने तो रहाणे के लिए भी अच्छा प्रदर्शन खुद को साबित करने के लिहा़ज से अहम होगा। लेकिन इस मैच में उनके अलावा विकेटकीपर बल्लेबा़ज दिनेश कार्तिक के प्रदर्शन पर भी निगाहें होंगी। विकेटकीपर रिद्धिमान साहा चोटिल होने के कारण बाहर हैं जिनकी जगह तीसरे टेस्ट में कार्तिक को शामिल किया गया है। कार्तिक ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पदार्पण वर्ष २००४ में किया था और अपना आखिरी टेस्ट उन्होंने लगभग ८ साल पहले खेला था।दक्षिण अफ्रीकी टीम में वेर्नोन फिलेंडर, कैगिसो रबादा, पदार्पण मैच में ही कमाल दिखाने वाले लुंगी एनगिदी और मोर्न मोर्कल एक बार उसके लिए जीत की राह बनाने उतरेंगे। फिलेंडर दो मैचों में १० विकेट लेकर सबसे सफल हैं जबकि टीम में संभवत: इस बार केशव महाराज को बाहर बैठाया जा सकता है और एक अतिरिक्त बल्लेबा़ज को मौका दिया जा सकता है। टीम में ए बी डीविलियर्स, डीन एल्गर, कप्तान फाफ डू प्लेसिस और क्विंटन डी काक की फिर अहम भूमिका होगी। डीविलियर्स दो मैचों में २०० रन के साथ सबसे सफल बल्लेबा़ज रहे हैं वहीं प्लेसिस और एडेन मार्कम तीसरे सबसे सफल स्कोरर हैं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List