सुशांत सिंह राजपूत पंचतत्व में विलीन, अब सिर्फ यादें

सुशांत सिंह राजपूत पंचतत्व में विलीन, अब सिर्फ यादें

सुशांत सिंह राजपूत पंचतत्व में विलीन, अब सिर्फ यादें

सुशांत सिंह राजपूत

मुंबई/दक्षिण भारत/भाषा। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का सोमवार शाम 4.15 बजे विले पार्ले स्थित श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान सुशांत के परिजन सहित टीवी और फिल्म उद्योग से जुड़े लोगों ने अभिनेता को नम आंखों से अंतिम विदाई दी।

अंतिम यात्रा में रिया चक्रवर्ती, श्रद्धा कपूर, कृति सैनन और विवेक ओबेरॉय भी शामिल हुए। सुशांत का परिवार पटना से मुंबई पहुंचा था। कोरोना महामारी के कारण चुनिंदा लोगों को ही अंतिम संस्कार में जाने की अनुमति मिली थी। अंतिम संस्कार के समय बारिश हुई जिस पर लोगों ने कहा कि आज आसमान भी सुशांत के इस तरह चले जाने से गमगीन है।

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत का परिवार उनका अंतिम संस्कार गृहराज्य में करना चाहता था लेकिन कोरोना महामारी के मद्देनजर पार्थिव शरीर बिहार लाना संभव नहीं था। अभिनेता के चचेरे भाई एवं भाजपा विधायक नीरज सिंह बबलू ने कहा, ‘हम यहां अंतिम संस्कार करना चाहते थे, लेकिन कोरोना वायरस के मद्देनजर यह संभव नहीं है।’

उन्होंने सुशांत के बारे में कहा, ‘दो-तीन महीने पहले बातचीत हुई थी। लगभग एक साल पहले आया था। पटना, सहरसा और गांव भी ले गए थे। हम लोग कभी सोच भी नहीं सकते थे कि ये दिन देखना पड़ेगा। इतना होनहार और हिम्मत वाला और उसके साथ ऐसी घटना हो जाए। हम लोग इतने मर्माहत हैं कि कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं हैं।

उन्होंने कहा, ‘उसमें हौसले में कोई कमी नहीं थी कि जो इस तरह का कदम उठाए। पर ऐसा हुआ क्यों, यह भी जांच का विषय है। कोई आर्थिक समस्या नहीं थी।’ सुशांत के साथ घटना को एक साजिश बताए जाने के बारे में नीरज ने कहा, ‘मुंबई को मायानगरी भी कहा जाता है। हम लोग भी इससे पूरी तरह इंकार नहीं करते हैं। इतना हौसला वाला लड़का था जो दूसरे को हिम्मत देता था।’

उन्होंने कहा, ‘उसकी आखिरी फिल्म ‘छिछोरे’ अवसाद पर आधारित थी कि कोई अवसाद के कारण आत्महत्या न करे। ऐसे में मुझे नहीं लगता कि वह ऐसा कर सकता था।’

सुशांत के साथ बिताए किसी महत्वपूर्ण क्षण के बारे में पूछे जाने पर भावुक होकर नीरज ने कहा ‘बहुत सारे ऐसे क्षण हैं। बचपन में साथ.. मेरी शादी में उछलकूद मचाए हुए था।’ उन्होंने कहा, हम इस साल के अंत में उसकी शादी करने की योजना बना रहे थे।’ सुशांत पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे थे।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा