पीड़ित द्वारा विवाद सुलझा लेने के बावजूद जघन्य अपराध निरस्त नहीं किया जा सकता

पीड़ित द्वारा विवाद सुलझा लेने के बावजूद जघन्य अपराध निरस्त नहीं किया जा सकता

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि हत्या और बलात्कार जैसे जघन्य अपराधों में चल रही कार्यवाही निरस्त नहीं की जा सकती भले ही पीि़डत या उसके परिवार ने आरोपी के साथ विवाद सुलझा लिया हो। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने कहा है कि हत्या, बलात्कार और डाकेजनी जैसे मानसिक नीचता वाले जघन्य अपराध निजी स्वरूप के नहीं होते हैं और इनका समाज पर गंभीर प्रभाव होता है। पीठ ने कहा, मानसिक नीचता और हत्या, बलात्कार तथा डकैती जैसे जघन्य और गंभीर अपराधों को निरस्त नहीं किया जा सकता है चाहे पीि़डत या उसके परिवार ने विवाद सुलझा लिया हो। पीठ ने कहा कि सही मायने में कहा जाए तो ऐसे अपराध निजी स्वरूप के नहीं होते हैं और इनका समाज पर गंभीर प्रभाव होता है। ऐसे गंभीर अपराधों में व्यक्तियों को दंड देने के लिए इनके मुकदमे जारी रखने का निर्णय जनहित के पहलू पर आधारित होता है। न्यायालय ने कथित रूप से भूमि हथियाने के मामले में चार व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने से इन्कार करने संबंधी गुजरात उच्च न्यायालय के फैसले को बरकरार रखते हुए अपने निर्णय में यह टिप्पणी की।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

'मेट्रो सेवा को नहीं हो रहा कोई नुकसान...', शिवकुमार ने क्यों​ किया 'शक्ति योजना' का जिक्र? 'मेट्रो सेवा को नहीं हो रहा कोई नुकसान...', शिवकुमार ने क्यों​ किया 'शक्ति योजना' का जिक्र?
Photo: DKShivakumar.official FB page
इंडि गठबंधन वाले हैं घोटालेबाजों की जमात, इन्हें किसी भी कीमत पर सत्ता चाहिए: मोदी
देवराजे गौड़ा के आरोपों पर बोले शिवकुमार- केवल पेन-ड्राइव के बारे में चर्चा कर रहे हैं ...
वीडियो ने साबित कर दिया कि स्वाति मालीवाल के सभी आरोप झूठे थे: आप
इंडि गठबंधन ने बुलडोजर संबंधी टिप्पणी के लिए मोदी की आलोचना की, कहा- धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा करेंगे
मोदी के तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर भारत तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा: नड्डा
मालीवाल मामले में दिल्ली पुलिस ने विभव कुमार को गिरफ्तार किया