संस्थाओं को खत्म करने का काम सबसे ज्यादा भाजपा ने ही किया : अखिलेश

संस्थाओं को खत्म करने का काम सबसे ज्यादा भाजपा ने ही किया : अखिलेश

लखनऊ/भाषासमाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सीबीआई में जारी घटनाक्रम का जिक्र करते हुए शुक्रवार को आरोप लगाया कि संस्थाओं को खत्म करने का काम सबसे ज्यादा भाजपा ने ही किया है। अखिलेश ने यहां संवाददाताओं से कहा आज देश की संस्थाओं पर ताले लग रहे हैं। आखिर कौन सी ऐसी संस्था है जो बची रह गई है। किसी भी सरकार या राजनीतिक दल को संस्थाओं से खिलवा़ड नहीं करना चाहिये। आप ऐसा करेंगे तो जनता किस पर विश्वास करेगी। संस्थाओं को खत्म करने का काम सबसे ज्यादा भाजपा ने ही किया है। देश का बैंकिंग तंत्र चौपट हो गया। यह सीबीआई से ज्यादा ब़डा संकट लाएगा। उन्होंने सीबीआई में जारी घटनाक्रम की तरफ इशारा करते हुए कहा जिस संस्था के बहाने हमें, आपको डराया जाता था। सरकारें डराती थीं, आज सोचो सरकार कैसे चुपचाप बैठ गई है। कैसे सरकार के तोते उ़ड गए हैं। अखिलेश ने कहा देश की एक-एक संस्था पर प्रश्नचिह्न लग रहा है। कौन किसको बचा रहा है। सरकारों ने सीबीआई का गलत इस्तेमाल किया है। उससे बहुत से लोगों को डराया है। सपा अध्यक्ष ने कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के लोगों ने पिछली फरवरी में लखनऊ में ब़डे तामझाम के साथ इन्वेस्टर्स समिट की थी। सरकार बताए कि कितने निवेशक आए और कौन सा बैंक उन्हें सहयोग कर रहा है। हमें पता लगा है कि इन्वेस्टर्स समिट के आयोजन में लगी चीनी लाइट में घोटाला कर दिया गया है। मगर हम अब तो इसकी सीबीआई जांच की मांग भी नहीं कर सकते।उन्होंने एक सवाल पर कहा राफेल जैसे इतने ब़डे समझौते पर अगर सवाल ख़डे हुए हैं तो भाजपा को सचाई के साथ जरूर सामने आना चाहिये। इस डील का सच जानने के लिए सपा ने संयुक्त संसदीय समिति के गठन की मांग की है। अगर यह समिति बन गई तो जनता को बहुत से सवालों का जवाब मिल जाएगा। अखिलेश ने कहा कि ब़डी वाहवाही के साथ हुई नोटबंदी का नतीजा यह है कि आजादी के बाद देश में पहली बार बैंक घाटे में आ गए हैं। नोटबंदी से देश में निवेश ही नहीं बल्कि खुशहाली भी रुकी है। आज लोग बैंकों का पैसा लेकर विदेश में बैठे हैं। अगर सिर्फ २००० प्रमुख कर्जदार लोग अपना ऋण वापस कर दें तो शायद बैंकों में फिर से खुशहाली आ जाएगी। इन लोगों ने पूरी की पूरी अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है।उन्होंने कहा कि आज हालत यह है कि मौजूदा सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था का यह हाल है कि दुनिया में भारत का नौजवान सबसे ज्यादा दुखी है। लोग अपने सपनों को पूरा करने के लिए ना जाने कितनी मेहनत करते हैं। दुर्भाग्य है कि मौजूदा सरकार ने जिस तरह की व्यवस्था बनाई है, उसमें आज के युवा सपने भी नहीं देख सकते।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सीपीएम और तृणकां ... पार्टियां दो, दुकान एक, सामान भी एक
'अग्निवीर': राहुल के बयान पर तेजस्वी सूर्या का जवाब- 'जिन्होंने अपने पूरे जीवन में .. एक भी दिन ...'
एसआईटी तय करेगी कि प्रज्ज्वल को कहां गिरफ्तार किया जाए: डॉ. जी परमेश्वर
बांग्लादेशी सांसद के मामले में जासूसी विभाग के प्रमुख ने किए कई बड़े खुलासे
इंडि गठबंधन भ्रष्टाचारियों का जमावड़ा है: नड्डा
कर्नाटक: बीवाई विजयेंद्र बोले- कांग्रेस सरकार की एक साल की उपलब्धियां शून्य हैं
चुनाव नतीजों में विपक्षी दलों के उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो जाएंगी: रवि किशन