आतंकी मसूद अजहर
आतंकी मसूद अजहर

नई दिल्ली/वार्ता। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किये जाने के प्रस्ताव पर चीन द्वारा वीटो वापस लेने के लिए उसके साथ किसी प्रकार का मोलभाव नहीं किया गया है और संयुक्त राष्ट्र के इस कदम के बाद पाकिस्तान को मसूद पर कार्रवाई करनी ही होगी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को यहाँ मंत्रालय की नियमित प्रेस ब्रीफिंग में इस संबंध में पूछे जाने पर कहा हम आतंकवाद और देश की सुरक्षा से जु़डे मुद्दों पर किसी भी देश के साथ मोलभाव नहीं करते। उसने पूछा गया था कि संयुक्त राष्ट्र ने मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादियों की सूची में शामिल करते हुये आधिकारिक दस्तावेज में उसके जिन कारनामों का उल्लेख किया है उसमें पुलवामा हमले का जिक्र नहीं है।

क्या चीन के साथ यही समझौता हुआ था कि वह वीटो वापस लेगा और बदले में भारत भी कुछ कदम पीछे हटायेगा?प्रवक्ता ने कहा कि मसूद अजहर को किसी एक गतिविधि के लिए अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित नहीं किया गया है। आधिकारिक दस्तावेज के अनुसार, वह जैश-ए-मोहम्मद की आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराता रहा है और उनकी योजना बनाने तथा उन्हें अंजाम देने से जु़डा रहा है। इसमें कमोबेश जैश की सारी गतिविधियाँ आ जाती हैं।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.

LEAVE A REPLY

eight + ten =