जनरल डिब्बे में कर रहे हैं यात्रा, तो इस योजना से ले सकते हैं कम कीमत पर खाना

ये भोजन काउंटर भारतीय रेलवे में 100 से अधिक स्टेशनों पर चालू हैं

जनरल डिब्बे में कर रहे हैं यात्रा, तो इस योजना से ले सकते हैं कम कीमत पर खाना

Photo: RailMinIndia FB page

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। रेलवे की एक नई पहल के तहत अनारक्षित डिब्बों में यात्रा करने वाले ट्रेन यात्रियों को अब स्टेशनों पर सस्ती कीमतों पर स्वच्छ भोजन और नाश्ता मिल रहा है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है।

ये भोजन काउंटर भारतीय रेलवे में 100 से अधिक स्टेशनों पर चालू हैं। इस सुविधा का और विस्तार किया जाएगा।

रेलवे अधिकारी ने कहा कि भारतीय रेलवे, इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के साथ मिलकर एक नई पहल के साथ यात्रियों, विशेषकर अनारक्षित कोचों में यात्रियों की सेवा के लिए कदम बढ़ा रहा है, जिसमें सस्ती कीमतों पर स्वच्छ भोजन और स्नैक्स की पेशकश की जा रही है।

उन्होंने आगे कहा, हम गर्मी के महीनों में यात्रियों की संख्या में वृद्धि की आशा करते हैं और अनारक्षित डिब्बों (सामान्य श्रेणी कोच) में यात्रा करने वाले लोगों के सामने आने वाली चुनौतियों को जानते हैं, जिनके पास हमेशा सुविधाजनक और बजट-अनुकूल भोजन विकल्प तक पहुंच नहीं होती है।

रेलवे के अनुसार, आसान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए, इन भोजन काउंटरों को प्लेटफार्मों पर सामान्य द्वितीय श्रेणी (जीएस) कोचों के पास सुविधाजनक रूप से रखा गया है।

इसकी दो श्रेणियां हैं— इकोनॉमी मील, जिसकी कीमत 20 रुपए है और स्नैक मील, जिसकी कीमत 50 रुपए है।

यात्री सीधे इन काउंटरों से अपना नाश्ता खरीद सकते हैं, जिससे विक्रेताओं की तलाश करने या स्टेशन के बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

उन्होंने कहा कि पिछले साल लगभग 51 स्टेशनों पर इस सेवा का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था। उस सफलता के आधार पर, रेलवे ने कार्यक्रम का महत्त्वपूर्ण रूप से विस्तार किया है। अब 100 से अधिक स्टेशनों पर काउंटर चालू हो गए हैं और कुल मिलाकर लगभग 150 काउंटर हैं। निकट भविष्य में और अधिक स्टेशनों को शामिल करते हुए इस पहल को और आगे बढ़ाने की योजना है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस