छात्रा ने सिद्दरामैया को मुफ्त बस टिकटों से बनी माला भेंट की

मुख्यमंत्री इससे अभिभूत हुए और उन्होंने इसे 'हमारी सरकार की उपलब्धियों की माला' बताया

छात्रा ने सिद्दरामैया को मुफ्त बस टिकटों से बनी माला भेंट की

Photo: @siddaramaiah X account

हासन/दक्षिण भारत। मुख्यमंत्री सिद्दरामैया को उस समय सुखद आश्चर्य हुआ, जब कानून के प्रथम वर्ष की एक छात्रा ने उन्हें मुफ्त बस टिकटों से बनी एक माला भेंट की।

इस कदम को कांग्रेस के पांच प्रमुख चुनाव पूर्व वादों में से एक 'शक्ति' गारंटी योजना शुरू करने के सिद्दरामैया के प्रति आभार व्यक्त करने के तरीके के रूप में देखा जा रहा है।

पिछले साल जून में शुरू की गई यह योजना राज्य के भीतर गैर-लक्जरी सरकारी बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की पेशकश करती है।

परिवहन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, अपनी शुरुआत के बाद से इसने 194.39 करोड़ मुफ्त यात्राएं दर्ज की हैं, जिससे राज्य के खजाने पर 4,673.56 करोड़ रुपए का भार आया है।

एमए जयश्री ने सोमवार शाम को इस जिले के अरसीकेरे में एक चुनाव प्रचार रैली के दौरान सिद्दरामैया को माला भेंट की।

जयश्री ने माला प्रस्तुत करते हुए कहा, 'आपने मुझे बसों में मुफ्त यात्रा करने की अनुमति दी, ताकि मैं कानून की पढ़ाई सुचारु रूप से कर सकूं।'

सिद्दरामैया के कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में छात्रा के हवाले से कहा गया, 'इसलिए मैंने सारे मुफ्त टिकट रख लिए और यह माला बनाई। मैं इसे आपके समक्ष प्रस्तुत करने के अवसर का महीनों से इंतजार कर रही थी। जब मैंने सुना कि आप अरसीकेरे आ रहे हैं, तो मैं एक सांस में माला लेकर यहां दौड़ती आ गई।'

मुख्यमंत्री इससे अभिभूत हुए और उन्होंने इसे 'हमारी सरकार की उपलब्धियों की माला' बताया। उन्होंने 'एक्स' पर एक पोस्ट में कहा, 'वे कानून की पढ़ाई पूरी कर एक अच्छी वकील बनकर समाज की सेवा करना चाहती हैं और उन गुमराह लोगों को सही रास्ता दिखाना चाहती हैं, जो गारंटी योजनाओं के कारण लड़कियों को भटकने का आरोप लगाते हैं।'

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस