उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड के आरोपी दोनों पुलिसकर्मी बर्खास्त होने के बाद अभी जेल में हैं लेकिन विभाग में कुछ लोग उनके समर्थन में एकजुट होने लगे हैं। इससे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी नाराज बताए जा रहे हैं। इन पुलिसकर्मियों द्वारा हत्यारोपियों के समर्थन में काली पट्टी बांधकर आने और सोशल मीडिया पर लिखने के कारण मुख्यमंत्री ने उनके उच्चाधिकारियों को फटकार लगाई है।

जानकारी के अनुसार, ऐसे तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर कड़ा संदेश देने की कोशिश की गई है। यही नहीं, तीन थाना इंचार्ज भी बदले गए हैं। इस मामले में दो पूर्व पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार करने की खबर है। आरोप है कि ये हत्यारोपियों की गिरफ्तारी का विरोध कर रहे थे।

जरूर पढ़िए: आईएस की कैद में रही हैं नोबेल विजेता नादिया, जुल्म और दुष्कर्म से भरी आपबीती रोंगटे खड़े कर देगी

विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, जिन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है उनके नाम जितेंद्र कुमार वर्मा, सुमित कुमार और गौरव चौधरी हैं। इस मामले में अविनाश पाठक और ब्रजेंद्र यादव नामक पूर्व पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

जानकारी के अनुसार, विवेक तिवारी हत्याकांड में पुलिसकर्मियों पर गंभीर आरोप लगने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनाया है। अब कुछ पुलिसकर्मियों के हत्यारोपियों के समर्थन में एकजुट होने से मुख्यमंत्री खफा हैं और उन्होंने विभाग के उच्च अधिकारियों को फटकार लगाई है। उन्होंने इसे अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा बताया है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि ऐसी हरकतों पर लगाम नहीं लगा पाए तो उन्हें भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

28 सितंबर देर रात को लखनऊ में विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में दो पुलिसकर्मियों पर गंभीर आरोप लगने के बाद देशभर में उनके खिलाफ आम जनता का गुस्सा फूट पड़ा। पुलिस की काफी किरकिरी होने के बाद उस पर कार्रवाई का दबाव पड़ा। कई रिपोर्टों में खुलासा हुआ कि हत्यारोपियों को बचाने और इस मामले को दबाने के लिए पुलिस जुटी रही।

ये भी पढ़िए:
– जयपुर में 2 खूंखार आतंकियों की गिरफ्तारी के इस वीडियो की हकीकत आपको हैरान कर देगी
– इंटरनेट पर सांप पकड़ने के तरीके सिखाने वाले शख्स को कोबरा ने डसा, हो गई मौत
– अब त्रिपुरा में भी उठी असम की तर्ज पर एनआरसी की मांग, कहा- विदेशियों को बाहर निकालो

LEAVE A REPLY