कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा

बेंगलूरु/भाषा। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा ने रविवार को विपक्ष के नेताओं को यह साबित करने की चुनौती दी कि नागरिकता संशोधन कानून का मुस्लिम समुदाय पर गलत असर पड़ेगा।

येडियुरप्पा ने कहा, नागरिकता संशोधन कानून के कारण देश में हमारे मुस्लिम भाइयों पर कोई बुरा असर नहीं पड़ेगा। जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी (कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रधानमंत्रियों) के कार्यकाल के दौरान भी इस पर आम सहमति थी।

उन्होंने कहा कि दुर्भावना के कारण मुस्लिम भाइयों में भ्रम पैदा किया जा रहा है और यही कारण है कि सीएए के समर्थन में भाजपा ने घर-घर जाकर अभियान चलाने का फैसला किया।

उन्होंने कहा कि पार्टी ने देशभर में तीन करोड़ लोगों और राज्य में 30 लाख घरों तक पहुंचने की योजना बनाई है। बढ़ते विरोध-प्रदर्शनों के बीच भाजपा ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह पांच जनवरी से देशभर में घर-घर जाकर सीएए के पक्ष में बड़ा अभियान शुरू करेगी।

येडियुरप्पा ने दोहराया कि इस कानून का भारतीय मुस्लिमों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने विपक्ष के नेताओं को यह चुनौती दी कि वे देश की जनता के सामने यह साबित करें कि इसका असर समुदाय (मुस्लिमों) पर पड़ेगा।

उन्होंने कहा, हम लोग ऐसी जगहों का भी दौरा करेंगे जहां मुस्लिम समुदाय बड़ी तादाद में रहता है और उनमें जागरूकता पैदा करने का प्रयास करेंगे। हिंदू, मुस्लिम या ईसाई के बीच हम कोई भेदभाव नहीं करते, हम लोग सभी को तथ्य से अवगत कराएंगे।

केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा, उपमुख्यमंत्री सीएन अश्वथनारायण और लक्ष्मण सावदी, मंत्री सुरेश कुमार समेत कई भाजपा नेता विभिन्न जगहों पर घर-घर जाकर अभियान चलाएंगे।