कर्नाटक रक्षणा वेदिके कार्यकर्ताओं ने किया समर्पण

कर्नाटक रक्षण वेदिक के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को वीवी पुरम पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

बेंगलूरू/दक्षिण भारत। भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) द्वारा हड़ताली डॉक्टरों के समर्थन में 24 घंटे के बंद के आह्वान के मद्देनजर कन्नड़ समर्थक संगठन कर्नाटक रक्षण वेदिक (करवे) के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को वीवी पुरम पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। गत सप्ताह सरकारी मिंटो आई हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टरों के साथ कथित मारपीट एवं दुर्व्यवहार के मामले में विक्टोरिया हास्पिटल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सतीश द्वारा इन कार्यकर्ताओं के विरुद्ध शिकायत दर्ज कराई गई थी। वी.वी.पुरम के एसीपी ने कहा कि जूनियर डॉक्टरों के साथ कथित दुर्व्यवहार की घटना के दौरान करवे के समूह का नेतृत्व करने वाले अश्‍विनी गौड़ा सहित 12 अन्य कार्यकर्ता जयनगर में पुलिस उपायुक्त के कार्यालय में पहुँचकर आत्मसमर्पण किया। पुलिस ने पूछताछ के लिए उन्हें हिरासत में ले लिया। इन सभी को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा। कन्नड़ रक्षण वेदिके के कार्यकर्ताओं ने आत्मसमर्पण से पहले शहर पुलिस आयुक्त से मिलने की योजना बनाई थी। लेकिन बेंगलूरू शहर पुलिस आयुक्त ने उन्हें पुलिस उपायुक्त दक्षिण के समक्ष पेश होने को कहा। मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश करने से पहले पुलिस ने इनको विक्टोरिया हॉस्पिटल ले जाकर इनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया।
कन्नड़ रक्षण वेदिके प्रमुख नारायण गौड़ा ने कहा कि बेंगलूरू सहित राज्य के विभिन्न अस्पतालों में डॉक्टरों की हड़ताल के कारण लोगों को होने वाली तकलीफों व दिक्कतों हम समझते हैं और इसीलिए हमारे कार्यकर्ताओं ने आत्मसमर्पण किया है। हम कानूनी कार्रवाई का सामना करने को तैयार हैं और मामले की जॉंच में पूरा सहयोग करेंगे।