प्रधानमंत्री मोदी, जनरल बिपिन रावत के साथ।
प्रधानमंत्री मोदी, जनरल बिपिन रावत के साथ।

नई दिल्ली/वार्ता। पाकिस्तानी वायु सेना द्वारा आज जम्मू-कश्मीर में भारतीय वायु सीमा का अतिक्रमण किए जाने और सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश के बाद सीमा पर उत्पन्न तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ बैठक की। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ और नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने शाम को प्रधानमंत्री के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार आधे घंटे से भी अधिक चली बैठक के दौरान तीनों सैन्य अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को मौजूदा घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी। बैठक में आगे की रणनीति तथा संभावित विकल्पों के बारे में भी चर्चा हुई।

जवानों ने किया करिश्माई काम
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि पाकिस्तान लगातार भारत को तोड़ने की कोशिश करता रहा है लेकिन हमारे जवानों ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया है। सिंह ने बिलासपुर शहर में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि आपने देखा हमारे जवानों ने कैसे करिश्माई काम किया है। हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान, भारत को तोड़ने की नापाक कोशिश करता रहा है। उस पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया गया है। हमारे जवानों ने उनकी पाकिस्तान की धरती पर जाकर वहां जो आतंकवादी ठिकाने चलाए जा रहे थे उन्हें ध्वस्त करने में कामयाबी हासिल की है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि पुलवामा में जो कुछ भी हुआ है उसे लेकर हमारे प्रधानमंत्री ने दो टूक शब्दों में कह दिया था कि हम अपने जवानों के बलिदानों को किसी भी सूरत में व्यर्थ नहीं जाने देंगे। हमारे एयर फोर्स के जवानों ने जो शौर्य का काम किया है, उसे आपने बहुत जल्द देख लिया। हमारे एयर फोर्स के जवानों ने वहां के आतंकवादी ठिकानों का खात्मा किया। एक भी पाकिस्तान के नागरिक की जान नहीं जाने दी। पाकिस्तान की सेना के ऊपर भी कोई आक्रमण नहीं किया गया। हमारे एयर फोर्स के जवानों ने पूरी सावधानी बरती है।

LEAVE A REPLY

6 − 4 =