भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा

भुवनेश्वर/दक्षिण भारत। चक्रवाती तूफान फेनी ने शुक्रवार को ओडिशा के कई इलाकों में कहर बरपाया। सोशल मीडिया में आ रहीं तस्वीरें देख देशभर में लोग सलामती के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा- जो ओडिशा से हैं और इस बार पुरी लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी हैं- ने इस चक्रवाती तूफान से उपजे हालात को ट्विटर पर बयान किया है।

संबित पात्रा लिखते हैं, ‘हर चीज हवा में उड़ रही है.. हवाओं की आवाज ने बहरा बना दिया है.. सभी खिड़कियों के शीशे टूट गए.. वास्तव में मुश्किल है.. यदि मजबूत इमारत में मेरी यह हालत है.. मैं लाखों लोगों के जीवन के लिए प्रार्थन करता हूं।’

संबित पात्रा ने चक्रवाती तूफान के दौरान रिकॉर्ड किया गया एक वीडियो भी दूसरे ट्वीट में पोस्ट किया है। इसमें तेज हवाओं की आवाज को सुना जा सकता है, जिससे उनका ताकत का अहसास होता है। सड़कें वीरान हैं और लोग सुरक्षित स्थानों की ओर चले गए हैं।

इस ट्वीट में संबित पात्रा लिखते हैं, ‘चक्रवात फेनी पहुंच गया है.. बहुत तेज हवाएं चल रही हैं.. भारी बारिश.. डराने वाली आवाज.. मुझे 1999 के सुपर साइक्लोन की याद आ रही है.. मैं हाथ जोड़कर भगवान जगन्नाथ से प्रार्थन करता हूं कि वे इसे सहन करने की शक्ति दें।’

बता दें कि 1999 में आए सुपर साइक्लोन ने भारी तबाही मचाई थी। उसे याद कर आज भी लोगों की आंखें नम हो जाती हैं, क्योंकि उसमें करीब 10,000 से ज्यादा लोगों ने जान गंवाई थी। फेनी तूफान के संबंध में मौसम विभाग ने शुरुआत से ही काफी चौकसी बरती। तूफान प्रभावित इलाकों के करीब 12 लाख लोग पहले ही सुरक्षित स्थान की ओर भेज दिए गए।

धार्मिक नगरी पुरी को लेकर काफी ऐहतियात बरती गई, क्योंकि यहां भगवान जगन्नाथ के दर्शन के लिए देश—विदेश से श्रद्धालु आते हैं। प्रशासन द्वारा समय पूर्व लोगों को चेतावनी दे दी गई थी। इसके अलावा तटवर्ती इलाकों से दूर रहने को कहा गया। पुरी में 175 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलीं। वहीं, राजधानी भुवनेश्वर में 140 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चली हवाओं से जनजीवन प्रभावित हुआ।

एक रिपोर्ट के अनुसार, फेनी का असर ओडिशा में कम होने के बाद पश्चिम बंगाल के इलाकों में बढ़ सकता है। इसके मद्देनजर प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी सभी चुनावी सभाएं रद्द कर दीं। केंद्र सरकार चक्रवात प्रभावित राज्यों को 1,000 करोड़ रुपए देने का ऐलान कर चुकी है। बचाव एवं राहत कार्यों के लिए ओडिशा के 11 जिलों से आदर्श आचार संहिता भी हटाई गई है।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.

LEAVE A REPLY

eleven − two =