सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

वॉशिंगटन/भाषा। अमेरिका के एक संस्थान के वैज्ञानिकों ने कुछ खास रक्त जांच के जरिए मानव शरीर की आंत में मौजूदा सूक्ष्म जीवाणुओं की विविधता का अनुमान लगाने का एक तरीका विकसित किया है।

सिएटल के इंस्टीट्यूट फॉर सिस्ट्मस बायोलॉजी (आईएसबी) के वैज्ञानिकों ने एक व्यक्ति के शरीर के रक्त में मौजूद छोटे अणुओं और उसकी आंत में मौजूद सूक्ष्म जीवाणुओं की संख्या के बीच संबंध का पता लगाया है।

उनके अध्ययन के नतीजे नेचर बायोटेक्नोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ है। शोध के मुताबिक, वैज्ञानिकों की इस खोज से आंत में सूक्ष्म जीवाणुओं की कम विविधता वाले लोगों की पहचान करने के लिए एक तीव्र, सस्ती और विश्वसनीय रक्त जांच विकसित करने की संभावना बनेगी।

शोधार्थियों के मुताबिक सूक्ष्म अणुओं के विश्लेषण और आंत की सूक्ष्म विविधता के बीच संबंध अनवरत पाए गए लेकिन ऐसा मोटापे के शिकार लोगों में नहीं पाया गया।

गौरतलब है कि मानव शरीर के पाचन तंत्र में कई सूक्ष्म जीवाणु मौजूद होते हैं जो संरक्षण क्रिया-कलाप करते हैं, जबकि कुछ बीमारी का कारण बनते हैं।