तीन अक्षरों से मिलकर बना है ओम। जिसका उच्चारण करके दिमाग और मन दोनों ही शांत हो जाते हैं। ये पवित्र शब्द न सिर्फ शांति देता है बल्कि सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है। हर रोज अगर सिर्फ पांच मिनट के लिए इसका उच्चारण किया जाए तो आपको कई सारी परेशानियों से मुक्ति मिल सकती है। इसका उच्चारण करने के लिए सुबह जल्दी जमीन पर सीधे बैठ जाएं। इस बात का ध्यान रखें की आपकी कमर और पीठ एकदम सीधी रहे। आंखें बंद करें और गहरी सांस लें। फिर ओम का उच्चारण करते हुए धीरे-धीरे सांस बाहर की तरफ छो़डें। रोजाना ५ मिनट इसका उच्चारण करने से आपको बहुत फायदे मिलेंगे।त्रद्मय्प् फ्ष्ठ द्बरु्यर्टैंखराब दिनचर्या और काम के अत्यधिक दबाव की वजह से तनाव होता है। इससे बचने के लिए आप नियमित ओम का उच्चारण करें। इससे तनाव दूर होगा और मन को शांति मिलती है। त्र्य्द्भद्यय्स्रंठ्ठ फ्ष्ठ च्रुणट्ट·र्ैंय्द्यय्ओम का उच्चारण करते वक्त गले में कंपन होता है। जिसकी वजह से थायरॉइड ग्रंथी में आई कमी दूर होती है और थायरॉइड हार्मोन्स संतुलित होते हैं। इसलिए थायरॉइड रोगी ओम का उच्चारण नियमित रूप से करें।ॅ·र्ैंय्ख्श्नत्रय् द्धढ्ढणक्कत्रर्‍ ब्स्ओम का उच्चारण करने से मन शांत हो जाता है और एकाग्रता ब़ढती है और जिसकी वजह से आपका दिमाग भी तेज होता है। इसलिए बच्चों के लिए ओम का उच्चारण फायदेमंद है।ॅद्मज्र्‍श्च द्धढ्ढणक्कय्त्रय् ब्स्आजकल लोगों की दिनचर्या ऐसी हो गई है कि लोग काम ज्यादा और आराम कम करते हैं। लगातार कई घंटों तक काम करने की वजह से आपकी एनर्जी भी खत्म हो जाती है। अगर आप रोज सुबह ओम का उच्चारण करते हैं तो इससे आपकी एनर्जी में काफी इजाफा होता है।द्यर्‍ढ्ढणक्क ·र्ैंर्‍ ब्रर्‍ ब्ह्ख्र्‍ द्बज्द्धरूत्र रोज सुबह ओम का उच्चारण अगर सही अवस्था में किया जाए तो ये आपकी री़ढ की हड्डी के लिए भी फायदेमंद होता है।

LEAVE A REPLY

11 − 8 =