भारतीय रिजर्व बैंक
भारतीय रिजर्व बैंक

मुंबई/भाषा। वित्त वर्ष 2019-20 की पांचवीं द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा की मुख्य बातें:

– रेपो दर 5.15 प्रतिशत पर अपरिवर्तित।

– चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर का अनुमान 6.1 प्रतिशत से घटाकर पांच प्रतिशत किया गया।

– विभिन्न त्वरित संकेतक बता रहे हैं कि मांग हालात कमजोर बने हुए हैं।

– आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए रिजर्व बैंक उदार रुख बनाए रखेगा।

– यह माना है कि मौद्रिक नीति में भविष्य में कदम उठाने की गुंजाइश बनी हुई है।

– चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए खुदरा मुद्रास्फीति अनुमान बढ़ाकर 5.1-4.7 प्रतिशत किया।

– रिजर्व बैंक का मानना है कि रेपो दर में कटौती का लाभ आगे पहुंचाने का काम बेहतर होगा।

– विदेशी मुद्रा भंडार तीन दिसंबर को 451.7 अरब डॉलर पर रहा। पिछले वित्त वर्ष की समाप्ति से यह 38.8 अरब डॉलर अधिक रहा।

– मौद्रिक नीति समिति के सभी छह सदस्यों ने नीतिगत दरों को अपरिवर्तित रखने का पक्ष लिया।

– मौद्रिक नीति समिति की अगली बैठक चार से छह फरवरी 2020 को होगी।