प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली/भाषा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को 69 वर्ष के हो गए और इस अवसर पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह समेत कई नेताओं ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं।

नायडू ने अपने संदेश में कहा कि मोदी के सक्षम नेतृत्व में देश लगातार प्रगति कर रहा है। अमित शाह ने मोदी को बधाई देते हुए ट्वीट किया, आपके नेतृत्व में उभरते नए भारत ने विश्व में एक मजबूत, सुरक्षित और विश्वसनीय राष्ट्र के रूप में अपनी पहचान बनाई है।

उन्होंने कहा, हर भारतीय के जीवन को सुगम बनाने के लिए आपका परिश्रम एवं संकल्प भाव हमारे लिए एक प्रेरणास्रोत है। एक जनप्रतिनिधि, एक कार्यकर्ता और एक देशवासी के रूप में आपके साथ राष्ट्रीय पुनर्निर्माण में भागीदार बनना सौभाग्य की बात है। ईश्वर से आपके स्वस्थ जीवन एवं दीर्घायु की कामना करता हूं।

शाह ने ट्वीट किया, विकास के साथ-साथ भारतीय संस्कृति को और अधिक समृद्ध करने में मोदीजी का अभूतपूर्ण योगदान है। मोदी ने एक सुधारक के रूप में न सिर्फ राजनीति को नई दिशा प्रदान की बल्कि आर्थिक सुधारों के साथ-साथ दशकों से चली आ रही समस्याओं का स्थायी समाधान निकालकर सभी को गौरवान्वित किया।

उन्होंने कहा, दृढ़ इच्छाशक्ति, निर्णायक नेतृत्व और अथक परिश्रम के प्रतीक एवं देश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता प्रधानमंत्री मोदीजी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

रक्षा मंत्री ने प्रधानमंत्री को शुभकामनाएं देते हुए कहा, उनके दूरदर्शी नेतृत्व ने भारत को प्रतिष्ठा की नई ऊंचाइयों पर ले जाने में मदद की। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना करता हूं।

मोदी का दिन आज बहुत व्यस्त है और वे अधिकतर समय गुजरात में रहेंगे। वे नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध जाएंगे और ‘नमामि नर्मदे’ उत्सव की शुरुआत करेंगे। नर्मदा का जल पहली बार अपने उच्चतम स्तर पर पहुंचा है।

वे केवडिया में बांध स्थल पर जाने के बाद एक सभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद वह ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ और बांध के निकट जारी विकास परियोजनाओं का जायजा लेंगे। वे केवडिया के निकट गरुड़ेश्वर गांव में भगवान दत्तात्रेय मंदिर जा सकते हैं।

मोदी ने पिछले साल 68वें जन्मदिन पर अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में स्कूली बच्चों के साथ समय बिताया था और इसके बाद उन्होंने वहां काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रार्थना की थी।