बेंगलूरु/दक्षिण भारत

कर्नाटक विधानसभा के में मुख्यमंत्री बीएस येड्डीयुरप्पा ने विश्वास मत का सामना किये बगैर ही शनिवार को इस्तीफा देने की घोषणा कर दी और इस तरह कर्नाटक में तीन दिन पुरानी येड्डीयुरप्पा सरकार गिर गई। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को आदेश दिया था कि येड्डीयुरप्पा सरकार आज शाम चार बजे राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल करें। हालांकि राज्यपाल वजुभाई वाला ने येड्डीयुरप्पा को अपना बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था।

आज दिनभर राजनीतिक गहमागहमी रही। मुख्यमंत्री येड्डीयुरप्पा बहुमत साबित कर पाएंगे या नहीं, इसके कयास लगाए जाते रहे। दोनों पक्ष अपने अपने दावे पर कायम रहे। अंततः 4 बजे से पहले ही येड्डीयुरप्पा ने अपना भावनात्मक भाषण दिया।येड्डीयुरप्पा ने कहा, मैं मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा देने जा रहा हूं। मैं राजभवन जाऊंगा और अपना इस्तीफा सौंप दूंगा। अपने भावनात्मक भाषण के बाद उन्होंने विधानसभा में कहा , मैं विश्वास मत का सामना नहीं करूंगा। मैं इस्तीफा देने जा रहा हूं। येड्डीयुरप्पा ने कहा कि वह अब लोगों के पास जायेंगे। उनके इस्तीफे के बाद अब राज्य में जद (एस) की राज्य इकाई के प्रमुख एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व में सरकार गठन का मार्ग प्रशस्त हो गया है। जद (एस) को कांग्रेस का समर्थन हासिल है। कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन ने 224 सदस्यीय विधानसभा में 117 विधायकों के समर्थन का दावा किया है। दो सीटों पर विभिन्न कारणों से मतदान नहीं हुआ था ।

LEAVE A REPLY