ccs meeting
ccs meeting

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर पहली कार्रवाई के तौर पर मोदी सरकार ने उससे एमएफएन (मोस्ट फेवर्ड नेशन) का दर्जा वापस लेने का फैसला किया है। शुक्रवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमले के दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे।

जेटली ने बताया कि सीसीएस की बैठक में पुलवामा मामले पर चर्चा हुई। इस दौरान शहीद जवानों को नमन करते हुए दो मिनट का मौन रखा गया। जेटली ने कहा कि बैठक में उक्त मामले पर विस्तार से चर्चा हुई। विदेश मंत्रालय ने सभी संभव राजनयिक कदम उठाने शुरू कर दिए हैं जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग किया जा सके।

जेटली ने कहा कि कायराना हरकत के जो जिम्मेदार हैं या इस आतंकी हमले का समर्थन किया है, उन्हें भारी कीमत चुकानी होगी। सीसीएस बैठक में देश की सुरक्षा से जुड़े गंभीर विषय पर चर्चा होने के कारण उन्होंने इसकी ज्यादा जानकारी साझा नहीं की।

क्या है मोस्ट फेवर्ड नेशन?
अंतरराष्ट्रीय व्यापार नियमों के आधार पर किसी देश को मोस्ट फेवर्ड नेशन यानी सबसे ज्यादा तरजीह वाले देश का दर्जा दिया जाता है। किसी देश को यह दर्जा मिलने के बाद उसे कुछ खास तरह की छूट मिलने के रास्ते खुल जाते हैं। उसके माल पर अतिरिक्त टैक्स आदि में रियायत दी जाती है। ऐसे देश को आश्वासन रहता है कि उसके कारोबारी हितों का ध्यान रखा जाएगा और नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। पाकिस्तान को 1999 में मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा गया था।

LEAVE A REPLY