अनुराग सिंघल
अनुराग सिंघल

वॉशिंगटन/भाषा। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक भारतीय अमेरिकी को फ्लोरिडा में संघीय न्यायाधीश नामित किया है। अनुराग सिंघल उन 17 न्यायाधीशों में शामिल हैं जिनके नाम व्हाइट हाउस ने सीनेट को भेजे हैं। अगर उनके नाम को सीनेट की मंजूरी मिल जाती है तो वे जेम्स आई. कोहन का स्थान लेंगे।

सिंघल फ्लोरिडा में इस पद के लिए नामित होने वाले पहले भारतीय अमेरिकी हैं। उनके नाम पर सहमति के लिए सीनेट की ज्यूडीशियरी कमेटी में बुधवार को सुनवाई होनी है। फिलहाल वे फ्लोरिडा में 17वें सर्किट कोर्ट में पदस्थापित हैं। वे इस पद पर 2011 से हैं।

राइस विश्वविद्यालय से स्नातक, सिंघल ने ‘वेक फॉरेस्ट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ लॉ’ में अध्ययन किया। उनके माता-पिता 1960 में अमेरिका आए थे। उनके पिता अलीगढ़ से थे और एक्सॉन में एक शोध वैज्ञानिक थे। उनकी मां देहरादून से थीं।

जुलाई माह में दक्षिण फ्लोरिडा के एशिया प्रशांत अमेरिकी बार संगठन ने दक्षिणी फ्लोरिडा के संघीय जिला अदालत के लिए सिंघल की उम्मीदवारी का समर्थन किया था।

अटॉर्नी जनरल विलियम बार्र को लिखे पत्र में कहा गया है कि सिंघल ने वकील समुदाय के साथ अपने सहयोग से सेवा और विविधता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को लगातार प्रदर्शित किया है। इसके अलावा वह कानून में,विधि व्यवस्था में और न्यायिक प्रशासन में सुधार के लिए अन्य विधिक तथा नागरिक संगठनों से जुड़े हुए हैं।

सिंघल को नामित करने की घोषणा ट्रंप प्रशासन द्वारा प्रमुख भारतीय अमेरिकी अटॉर्नी शीरीन मैथ्यूज को सदर्न डिस्ट्रिक ऑफ कैलिफोर्निया के अमेरिकी जिला अदालत का न्यायाधीश नामित करने के बाद हुई है।

नेशनल एशियन पैसेफिक अमेरिकन बार एसोसिएशन ने कहा कि यदि उनके नाम पर मुहर लग जाती है, तो मैथ्यूज पहली एशिया प्रशांत अमेरिकी महिला और दक्षिणी जिले में एक अनुच्छेद 111 संघीय न्यायाधीश के रूप में सेवा देने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी होंगी।