प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचीं दीपिका
प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचीं दीपिका

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण द्वारा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय पहुंचकर प्रदर्शनकारी छात्रों के प्रति एकजुटता दिखाना उनकी आगामी फिल्म ‘छपाक’ के लिए घाटे का सौदा साबित हो सकता है। दीपिका के इस कदम के बाद ट्विटर पर ‘बॉइकाटछपाक’ ट्रेंड करने लगा है।

बड़ी तादाद में यूजर्स ने दीपिका के इस रुख का विरोध कर उनकी ​उक्त फिल्म का बहिष्कार करने की मांग की है। बता दें कि छात्रों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए दीपिका मंगलवार को जेएनयू पहुंची थीं। उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हुई थीं। इस पर भाजपा नेता तेजिंदर पाल सिं​ह बग्गा ने ट्वीट किया, ‘अगर दीपिका पादुकोण द्वारा टुकड़े-टुकड़े गैंग और अफजल गैंग का समर्थन करने पर आप उनकी फिल्मों का बहिष्कार करेंगे तो रिट्वीट ​करें।’

बग्गा ने इस ट्वीट के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की थी जिसमें दीपिका छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष और कन्हैया कुमार के साथ दिखाई दे रही हैं। इसके बाद सोशल मीडिया ‘बॉइकाटछपाक’ जैसी अपीलों से भर गया। बता दें कि दीपिका शाम करीब सात बज कर 40 मिनट पर विश्वविद्यालय परिसर पहुंचीं और उन्होंने एक जनसभा में हिस्सा लिया। यह बैठक रविवार को परिसर में छात्रों और शिक्षकों पर हुए हमले पर बातचीत के लिए जेएनयू शिक्षक संघ और जेएनयूएसयू ने बुलाई थी।

जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार जिस वक्त आजादी के नारे लगा रहे थे, दीपिका खड़ी हो गईं और जब तक जेएनयूएसयू नेता आइशी घोष ने बोलना शुरू किया दीपिका जा चुकी थीं। मौजूद लोगों को संबोधित नहीं करने के दीपिका के निर्णय पर घोष ने टिप्पणी की, ‘जब आप एक हस्ती हैं तो आपको बोलना चाहिए।’ जेएनयूटीए सचिव सुरजीत मजूमदार ने कहा कि दीपिका छात्रों के प्रति एकजुटता दिखाने यहां आई थीं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में अपनी आगामी फिल्म ‘छपाक’ का प्रमोशन करने आईं अभिनेत्री ने सोमवार को कहा था कि यह जरूरी है कि लोग बदलाव लाने के लिए अपने विचार व्यक्त करें। हालांकि इस बीच यह भी चर्चा है कि प्रदर्शनकारियों को समर्थन से फिल्म के प्रचार को लेकर उनका यह दांव कहीं उल्टा न पड़ जाए।