capital punishment
capital punishment

नई दिल्ली/भाषा। दिल्ली में 2012 में हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले की पीड़िता निर्भया की मां ने कहा कि वह चाहती हैं कि दोषियों को 16 दिसंबर को ही फांसी दी जाए।

गौरतलब है कि 16-17 दिसंबर 2012 की दरमियानी रात दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में छह लोगों ने 23 वर्षीय छात्रा का सामूहिक दुष्कर्म किया था। उन्होंने बर्बरता के बाद उसे सड़क पर फेंक दिया था।

निर्भया की मां ने मौत की सजा के खिलाफ चार दोषियों में से एक की पुनर्विचार याचिका का विरोध करते हुए उच्चतम न्यायालय का रुख किया है। उन्होंने कहा कि वह जब तक जीवित हैं तब तक अपनी बेटी को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष करती रहेंगी। दोषी की पुनर्विचार याचिका पर 17 दिसंबर को सुनवाई होगी।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, मैं अपनी बेटी को न्याय दिलाने और मुझसे मेरी बेटी को छीन लेने वाले दोषियो को फांसी दिलाने के लिए संघर्ष करती रहूंगी। मैं दोषियों को 16 दिसंबर से पहले फांसी पर लटकते हुए देखना चाहती हूं।

दिल्ली की एक अदालत 18 दिसंबर को दोषियों को फांसी की सजा देने पर अमल करने वाली एक याचिका पर सुनवाई करेगी। बर्बर हमले की शिकार छात्रा को निर्भया नाम दिया गया था। उसने 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था।