मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने का मतलब है- भारत को तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाना: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री ने पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में जनसभा को संबोधित किया

मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने का मतलब है- भारत को तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाना: शाह

शाह ने कहा कि संदेशखाली में अत्याचार करने वाले को पाताल से भी जेल पहुंचा देंगे

दुर्गापुर/दक्षिण भारत। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में जनसभा को संबोधित किया करते हुए विपक्ष पर खूब हमला बोला। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी और उनके भतीजे को राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण भेजा गया था, लेकिन ये लोग नहीं गए थे। आपको मालूम है, क्यों नहीं गए? वे अपने वोट बैंक से डरते हैं। ये घुसपैठ करके जो आए हैं, वे उनके वोटबैंक हैं। इनसे ममता दीदी डरती हैं।

शाह ने कहा कि मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने का मतलब है- भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाना, देश से आतंकवाद और नक्सलवाद को खत्म करना है, देश में विकास और समृद्धि सुनिश्चित करना है।

शाह ने कहा कि यहां के मजदूर श्रमिक संघों पर तृणकां का राज है। यहां तृणकां के गुंडे गरीब मजदूरों की मजदूरी की उगाही करके भतीजे को देते हैं। एक बार यहां से दिलीप दा को जिता दें, इन गुंडों को हम 'सीधा' कर देंगे।

शाह ने कहा कि ये लोग (तृणकां) कटमनी चलाते हैं, घुसपैठ कराकर अपना वोटबैंक बनाते हैं। ममता दीदी, आपको ... आनी चाहिए, सरहदी राज्य में आप घुसपैठ को बढ़ावा देती हैं और घुसपैठियों को अपना वोट बैंक बनाती हैं।

शाह ने कहा कि कम्युनिस्टों, तृणकां और कांग्रेस ने अनुच्छेद 370 को 70 साल तक 'संरक्षित' रखा। इसने कश्मीर से आतंकवाद को पूरे देश में फैला दिया। लेकिन मोदी के सत्ता में आने के बाद, 5 अगस्त, 2019 को धारा 370 को ऐतिहासिक रूप से निरस्त कर दिया गया। विपक्ष को न तो लोगों की सुरक्षा की परवाह है और न ही देश की सुरक्षा की।

शाह ने कहा कि बंगाल में भ्रष्टाचार और चुनावी हिंसा आम हो चुकी है। आज ही बम धमाका हुआ है। वे (ममता बनर्जी) डराना चाहती हैं। लेकिन दुर्गापुर वालो! चुनाव आयोग ने केंद्रीय बल लगाए हैं, ममता दीदी के ... से डरने की जरूरत नहीं है। खुलकर मतदान कीजिए।

शाह ने कहा कि विपक्ष के पास भ्रष्टाचार का ट्रैक रिकॉर्ड है, जबकि मोदी के पूरे राजनीतिक जीवन में ऐसा एक भी दाग नहीं है। संदेशखाली में तृणकां नेताओं ने धर्म के आधार पर हमारी सैकड़ों बहनों पर अत्याचार किया। ममता दीदी, संदेशखाली के अपराधियों को पकड़ने को तैयार नहीं थीं। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद भी जांच नहीं की, तो न्यायालय ने जांच सीबीआई को सौंपी। ममता दीदी! आपको ... आनी चाहिए, आप महिला मुख्यमंत्री हैं और आपकी नाक के नीचे सैकड़ों माताओं-बहनों पर अत्याचार हुआ।

शाह ने कहा कि संदेशखाली में जिसने अत्याचार किया है, वो अगर पाताल में भी छिप जाए तो भी हम उसे जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा देंगे। पश्चिम बंगाल में हमें 30 सीटों का आशीर्वाद दें, मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाएं और सुनिश्चित करें कि हम इस बार 400 के पार जाएं।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List