छठ पर्व पर उमड़ा आस्था का सैलाब

छठ पर्व पर उमड़ा आस्था का सैलाब

छठ पूजा के मौके पर शनिवार को मथुरा में यमुना नदी के तट पर छप्पन भोग लगाते हुए श्रद्धालु।

लखनऊ/वार्ता। तीर्थराज प्रयाग और सांस्कृतिक नगरी वाराणसी समेत समूचे उत्तर प्रदेश में शनिवार को सूर्योपासना के महपर्व के मौके पर आस्था का सैलाब हिलोरें मारता रहा। गंगा,यमुना समेत विभिन्न नदियों और सरोवरों में व्रतधारी महिलाओं ने अस्ताचलामी सूर्य को अर्ध्य देकर परिवार में समृद्धि और सुख शांति की कामना की। रविवार को दूसरा अर्ध्य उगते हुए सूर्य को देकर व्रत की पुर्णाहुति की जायेगी। इस मौके पर घाटों को आकर्षक ढंग से सजाया गया था जहां देर रात तक मेले जैसी छटा देखने को मिली।
‘कांचहि बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाए दर्शन दीन्हीं ना अपन ये छठी मइया’ जैसे गीत गाकर महिलाओं ने सूर्य की उपासना की। महिलाओं ने गन्ने के मंडप सजाकर उसमें विभिन्न प्रकार के फलों और पकवानों को रखकर पूजा-अर्चना की। सूर्य देव के अस्त होने से पहले महिलाओं ने अर्घ्य दिया और दीपदान भी किया। दीपों की रोशनी से नदी सरोवर जगमगा उठे। प्रयागराज, लखनऊ, कुशीनगर, देवरिया, गोरखपुर, बलिया और बस्ती समेत अधिसंख्य इलाकों में छठ पर्व पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। तीर्थराज प्रयाग में छठ के अवसर पर पवित्र पावनी गंगा और श्यामल यमुना के विभिन्न घाटों पर अस्ताचलामी सूर्य को अर्ध्य देने के लिए श्रद्धालुओं की भीड उमड़ पड़ी। गंगा किनारे दशाश्वमेघ घाट, संगम घाट समेत अनेक घाटों पर अर्ध्य देने के लिए श्रद्धालुओं का रेला लगा है। बाढ़ के कारण पिछले साल की तुलना में सूखा स्थान कम और दलदली अधिक होने के कारण बड़ी संख्या में लोगों ने घाटों पर वेदी बनाकर रस्सी, बांस और कपडे से घेर दिया है। यदि इसको घेरते नहीं तो इतनी भीड़ होती है, उन्हे वेदी बनाने की जगह नहीं मिलती। सूखी जमीन कम होने के कारण अपना स्थान सुरक्षित करने के लिए ऐसा करना पड़ा है।
कुशीनगर में डूबते हुए भगवान प्रकाश रुप सूर्य को अर्घ्य देकर विधि-विधान से पूजा अर्चना की गई, जबकि छठ पर्व के आखिरी दिन रविवार को सुबह उगते सूरज की आराधना की जाएगी। कहना न होगा कि छठ पूजा करने वाले घरो मे पिछले चार दिनों से छठ पर्व मनाया जा रहा है। इस पर्व को लेकर महिलाएं व्रत रहती हैं्।
छठ उत्सव को लेकर शहर मे रह रहे अप्रवासी नागरिको एवं ग्रामीण क्षेत्र मे भारी उत्साह देखने को मिला। इस दौरान बच्चों ने जमकर आतिशबाजी की। इस आतिशबाजी से तालाब के घाट रंगीन हो उठे और काफी देर तक धमाकों की आवाज से गूंजते रहे। शाम चार बजे से महिलाए छठ घाट पर प्रस्थान के लिए अपने घर से निकल पडी। इस दौरान उनके घर के पुरुष अपने सिर पर डाल रख आगे-आगे चल रहे थे।
महिलाए उनके पीछे- पीछे छठी मईया की गीत गाते हुए आगे बढ रही थी। छठी माई के भुखनी बरतिया निराजल निराहार- कांचही बास के बहगिया- छठी माई के घटवा पर आजम- बाजम बजा बजवाइब हो कर ले छठ पूजा आदि गीतो से माहौल पूरी तरह भक्तिमय बना रहा।

 

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सीपीएम और तृणकां ... पार्टियां दो, दुकान एक, सामान भी एक
'अग्निवीर': राहुल के बयान पर तेजस्वी सूर्या का जवाब- 'जिन्होंने अपने पूरे जीवन में .. एक भी दिन ...'
एसआईटी तय करेगी कि प्रज्ज्वल को कहां गिरफ्तार किया जाए: डॉ. जी परमेश्वर
बांग्लादेशी सांसद के मामले में जासूसी विभाग के प्रमुख ने किए कई बड़े खुलासे
इंडि गठबंधन भ्रष्टाचारियों का जमावड़ा है: नड्डा
कर्नाटक: बीवाई विजयेंद्र बोले- कांग्रेस सरकार की एक साल की उपलब्धियां शून्य हैं
चुनाव नतीजों में विपक्षी दलों के उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो जाएंगी: रवि किशन