रेल मंत्री गोयल ने आईसीएफ के अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक

रेल मंत्री गोयल ने आईसीएफ के अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक

चेन्नई। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को चेन्नई स्थित इंटिग्रेटेड कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) का दौरा किया और यहां के अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की। इस बैठक के दौरान रेल मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वह सुनिश्चित करें कि भारतीय रेल तेज गति और सुरक्षित ढंग से सर्वश्रेष्ठ सेवा प्रदान करे। अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि सभी मानव रहित रेलवे क्रासिंगों को एक वर्ष के भीतर हटाया जाए। पहले रेलवे की ओर से इन मानवरहित क्रासिंगों को हटाने के लिए तीन वर्ष का लक्ष्य निर्धारित किया गया था लेकिन अब इन्हें एक वर्ष के अंदर हटाने का निर्देश दिया गया है।रेल मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने १५ सितम्बर से २ अक्टूबर के बीच ’’स्वच्छता ही सेवा’’ पखवा़डा का आयोजन करने का आवाह्न किया है और रेलवे के सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को इसमें हिस्सा लेने के लिए आगे आना चाहिए तथा ट्रेनों, स्टेशनों और रेलवे परिसरों में साफ सफाई सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि रेलवे द्वारा रेलवे स्टेशनों पर एलईडी लाइटों का उपयोग कर बिजली की बचत करनी चाहिए। इसके साथ ही रेलवे क्वार्टरों में भी एलईडी लाइटों का उपयोग करना चाहिए।रेल मंत्री ने कहा कि रेलवे प्रशासन द्वारा अधिक से अधिक स्टेशनों पर चाइल्ड हेल्प डेस्क स्थापित किए जाएं ताकि बच्चों के बचाव कार्य को प्रभावी ढंग से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश भर में लापता होने और खोने वाले बच्चों की संख्या काफी अधिक है। इनमें से बच्चों के लापता होने या भटकने के मामले रेलवे स्टेशनों पर होते हैं। कभी-कभी बच्चे ट्रेनों से एक स्थान से दूसरे स्थान भाग जाते हैं इसी प्रकार की स्थिति में यदि रेलवे स्टेशनों पर चाइल्ड हेल्प डेस्क होंगे तो बच्चों को बचाने और उनके घर और उनके परिजनों तक पहुंचाने में मदद मिलेगी।रेल मंत्री ने आईसीएफ द्वारा कई ट्रेनों में बायो शौचालय लगाने के कार्य की सराहना की। उन्होंने कहा कि बायो शौचालय लगाने का कार्य इसके लिए निर्धारित कार्य से पहले ही पूरा कर लेने की कोशिश करें। उन्होंने अधिकारियों को जल संरक्षण, प्लास्टिक के अपशिष्ट पदार्थों के निस्तारण आदि पर ध्यान देने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि रेलवे को माल ढुलाई में वृद्धि करने के साथ ही लागत को कम करने पर भी विचार करना चाहिए।इसके लिए विभिन्न रेल मंडलों और क्षेत्रीय रेल कार्यालयों द्वारा अपने सुझाव दिए जा सकते हैं। उन्होंने आईसीएफ के कार्यांे की समीक्षा की और अधिकारियों को भारतीय रेल की बढती जरुरतों के मद्देनजर अपने उत्पादन को बढाने का आह्वान किया। उन्होंने आईसीएफ के अधिकारियों से अनुरोध किया वह ऐसी आधुनिक तकनीकों को लेकर आए जो आधुनिक दुनिया के लिए मददगार साबित हो सके।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News