बढ़ती अर्थव्यवस्था.. सांकेतिक चित्र
बढ़ती अर्थव्यवस्था.. सांकेतिक चित्र

नई दिल्ली/भाषा। भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है। उसने 2019 में ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ दिया। अमेरिका के शोध संस्थान ‘वर्ल्ड पॉपुलेशन रिव्यू’ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आत्मनिर्भर बनने की पूर्व की नीति से भारत अब आगे बढ़ते हुए एक खुली बाजार वाली अर्थव्यवस्था के रूप में विकसित हो रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के मामले में भारत 2,940 अरब डॉलर के साथ दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है। इस मामले में उसने 2019 में ब्रिटेन तथा फ्रांस को पीछे छोड़ दिया।

ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था का आकार 2,830 अरब डॉलर है जबकि फ्रांस का 2,710 अरब डॉलर है। क्रय शक्ति समता (पीपीपी) के आधार पर भारत का जीडीपी 10,510 अरब डॉलर है और यह जापान तथा जर्मनी से आगे है। भारत में अधिक आबादी के कारण प्रति व्यक्ति जीडीपी 2,170 डॉलर है। यह अमेरिका में प्रति व्यक्ति 62,794 डॉलर है।

हालांकि भारत की वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर लगातार तीसरी तिमाही में कमजोर रह सकती है और 7.5 प्रतिशत से घटकर 5 प्रतिशत पर आ सकती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में आर्थिक उदारीकरण 1990 के दशक में शुरू हुआ है। उद्योगों को नियंत्रण मुक्त किया गया और विदेशी व्यापार एवं निवेश पर पर नियंत्रण कम किया। साथ ही सरकारी कंपनियों का निजीकरण किया गया।

इसमें कहा गया है, इन उपायों से भारत को आर्थिक वृद्धि तेज करने में मदद मिली है। अमेरिका का वर्ल्ड पॉपुलेशन रिव्यू एक स्वतंत्र संगठन है।