कोरोना के खतरे के बीच बैंकिंग संस्था का सुझाव- भुगतान के लिए डिजिटल उपायों पर करें गौर

कोरोना के खतरे के बीच बैंकिंग संस्था का सुझाव- भुगतान के लिए डिजिटल उपायों पर करें गौर

डिजिटल पेमेंट

नई दिल्ली/भाषा। दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस फैलने के बीच बैंकिंग क्षेत्र से जुड़ी एक संस्था ने कहा है कि लोगों को लेनदेन में करेंसी नोट के बजाय डिजिटल तौर-तरीकों से भुगतान करना चाहिए। ‘वॉयस आफ बैंकिंग’ संगठन ने यह सुझाव देते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के हवाले से कहा है कि डब्ल्यूएचओ ने भी लोगों को सलाह दी है कि वे बैंक नोट के उपयोग से बचें और भुगतान के लिय अन्य डिजिटल भुगतान तरीकों का उपयोग करने का प्रयास करें।

संगठन के मुताबिक देश में नोटबंदी के दौरान भी यह देखा गया कि हजारों बैंक कर्मचारी संक्रमण से पीड़ित हुए थे। संगठन ने कहा है कि बैंक प्रबंधन को कर्मचारियों की सुविधा के लिए पर्याप्त मात्र में हैंड सैनिटाइज़र उपलब्ध कराने चाहिए। ‘वॉयस आफ बैंकिंग’ ने कहा है कि बैंक नोट्स छूने के बाद ग्राहकों को अपने हाथ धोने चाहिए। बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए, लोगों को जहां तक संभव हो, संपर्क रहित तकनीक यानी डिजिटल भुगतान तरीकों का उपयोग करना चाहिए।

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के माइक्रोबायोलॉजी विभाग द्वारा किए गए एक अध्ययन का हवाला देते हुए संगठन ने कहा है कि मुद्रा नोट और सिक्के संक्रमण का एक स्रोत हो सकते हैं। शोधकर्ताओं ने विभिन्न स्रोतों जैसे ऑटो-रिक्शा चालक, मेडिकल स्टोर, विक्रेताओं आदि से मुद्रा नोटों और सिक्कों को एकत्रित किया और उन्हें बैक्टीरिया और वायरस से लैस पाया। हालांकि, संक्रमण के इस स्रोत को रोग निवारण प्रोटोकॉल में अच्छी तरह से संबोधित नहीं किया गया है।

केजीएमयू के माइक्रोबायोलॉजी विभाग की प्रमुख लेखक डॉ. सुनीता सिंह ने कहा, हमारे परिणामों से पता चला है कि मुद्रा रोगाणुओं से दूषित है और यह संदूषण एंटीबायोटिक प्रतिरोधी या संभावित हानिकारक जीवों के संचरण में भूमिका निभा सकती है। शोधकर्ताओं ने सूक्ष्म जीव विज्ञान और फुफ्फुसीय चिकित्सा में विशेषज्ञों को शामिल किया।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?