भारत के तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने में एआई की क्षमता वास्तव में विशाल: मोदी

मोदी और ऑल्टमैन ने इस दौरान एआई के नियमन से संबंधित बिंदुओं पर चर्चा की

भारत के तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने में एआई की क्षमता वास्तव में विशाल: मोदी

भारत को कृत्रिम मेधा से कैसे लाभ हो सकता है?

नई दिल्ली/भाषा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत के तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने में कृत्रिम मेधा (एआई) की क्षमता वास्तव में विशाल है और वह भी विशेष रूप से युवाओं के बीच।

प्रधानमंत्री मोदी ने चैटजीपीटी का निर्माण करने वाली कंपनी ओपनएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सैम ऑल्टमैन से बृहस्पतिवार को हुई मुलाकात के बाद यह बात कही।

मोदी और ऑल्टमैन ने इस दौरान एआई के नियमन से संबंधित बिंदुओं पर चर्चा की।

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, उपयोगी बातचीत के लिए ऑल्टमैन का धन्यवाद। भारत के तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने में एआई की क्षमता वास्तव में विशाल है और वह भी विशेष रूप से युवाओं के बीच। हम उन सभी सहयोग का स्वागत करते हैं जो हमारे नागरिकों को सशक्त बनाने के लिए हमारे डिजिटल बदलाव को गति दे सकते हैं।

इससे पहले, ऑल्टमैन ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के दौरान उनके बीच भारत में तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र के बारे में चर्चा हुई।

उन्होंने कहा कि भारत को कृत्रिम मेधा से कैसे लाभ हो सकता है, इस बारे में भी प्रधानमंत्री से चर्चा हुई।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

तटीय कर्नाटक में रेलवे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी: केंद्रीय मंत्री सोमन्ना तटीय कर्नाटक में रेलवे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी: केंद्रीय मंत्री सोमन्ना
Photo: VSomannaBJP FB page
ट्रंप पर हमले में ईरान का हाथ? जनरल सुलेमानी की हत्या होने के बाद खाई थी यह कसम!
कर्नाटक: वाल्मीकि निगम घोटाला मामले में ईडी ने पूर्व मंत्री नागेंद्र की पत्नी से पूछताछ की
बांग्लादेश में लगी आरक्षण आंदोलन की आग, झड़पों में कई लोगों की मौत
कई नेताओं ने छोड़ी अजित पवार की राकांपा, सु​प्रिया बोलीं- 'लोग बड़ी उम्मीदों से देख रहे'
कर्नाटक ने निजी क्षेत्र में कन्नड़ लोगों के लिए 100% कोटा अनिवार्य करने वाले विधेयक को मंजूरी दी
यह कैसा शांतिकाल?