केन्द्र के दबाव में ताजमहल गए हैं योगी : अखिलेश

केन्द्र के दबाव में ताजमहल गए हैं योगी : अखिलेश


लखनऊ। ताजमहल को लेकर पनपे विवाद के बीच सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को कहा कि अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बदनामी होने के बाद केन्द्र सरकार के दबाव में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मजबूरन आज विरासत स्थल जाना पड़ा।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा के लोगों ने ताजमहल को शिव का मंदिर बता दिया। किसी ने उसे भारतीय संस्कृति पर धब्बा कहा। मगर देखिये समय कैसे बदलता है। जब अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बदनामी हुई तो केन्द्र सरकार के दबाव में मुख्यमंत्री योगी आज ताजमहल पहुंच गए।

सपा अध्यक्ष ने योगी द्वारा गुरुवार को चलाए गए स्वच्छता अभियान पर तंज कसते हुए कहा, जो लोग ताजमहल को अपनी संस्कृति का हिस्सा और अपनी धरोहर नहीं मानते थे, भगवान राम ने क्या किया कि आज उन्हें उसी इमारत के पश्चिमी द्वार पर झाडू लगानी पड़ गई। अखिलेश ने कहा, ताजमहल परिसर में कुछ लोगों ने भगवा पहनकर पूजा की। यह लोग देश से पर्यटन को खत्म करना चाहते हैं। मैं चुनौती देता हूं कि भाजपा और उसके लोग ताजमहल को दुनिया की धरोहर इमारतों की सूची से हटवाकर दिखायें। पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उनकी सरकार ने ताजमहल के आसपास सबसे ज्यादा काम किया, जबकि मौजूदा भाजपा सरकार ने इस इमारत से जुड़ी तमाम परियोजनाओं को रोक दिया।

सपा अध्यक्ष ने दावा किया कि इस बार गुजरात की जनता ने विधानसभा चुनाव में भाजपा को खारिज करने का फैसला कर लिया है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस से पांच सीटें मांगी हैं। अगर बात नहीं बनती है तो भी सपा वहां सभी सीटों पर कांग्रेस का समर्थन करेगी।

अखिलेश ने प्रदेश के आगामी स्थानीय निकाय चुनाव की तरफ इशारा करते हुए कहा कि प्रदेश में कूड़े की बड़ी समस्या है और कूड़ा खत्म करने का चुनाव भी आ रहा है। हम जनता से कहेंगे कूड़े को सफाई में बदलने के लिये इन चुनाव में सपा को वोट दें।

उन्होंने कहा कि अगर सपा जनता को समझाने में कामयाब रही और मेट्रो रेल, जनेश्वर मिश्र पार्क, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को लेकर वोट पड़े तो ज्यादातर नगर निगमों में सपा के ही मेयर होंगे।

अखिलेश ने एक सवाल पर कहा कि उनकी पार्टी आगामी आठ नवम्बर को नोटबंदी का एक साल पूरा होने पर काला दिवस मनाएगी।

इस मौके पर बसपा, भाजपा तथा कांग्रेस के कई नेता अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ सपा में शामिल होंगे। इनमें बसपा से तीन बार विधान परिषद सदस्य रहे मनीष जायसवाल, वरिष्ठ नेता मधुसूदन शर्मा तथा रालोद की पूर्व विधायक मिथिलेश पाल प्रमुख हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा