अभिनेता विशाल और दीपा का नामांकन रद्द

अभिनेता विशाल और दीपा का नामांकन रद्द

चेन्नई। निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को अभिनेता विशाल और राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार की ओर से दाखिल किए गए नामांकन पर्चा को रद्द कर दिया। चुनाव आयोग द्वारा मंंगलवार को आरके नगर उपचुनाव के लिए नामांकन पर्चा दाखिल करने वाले प्रत्याशियों के नामांकन पर्चा की जांच की और इसमें त्रुटी पाने के बाद कुछ प्रत्याशियों का नामांकन पर्चा रद्द कर दिया। हालांकि अभिनेता और दीपा जयकुमार के नामांकन पर्चा दाखिल करने का समाचार आने के बाद इस पर विशाल और दीपा जयकुमार के समर्थकों ने हैरानी प्रकट की।अभिनेता विशाल का नामांकन पर्चा इसलिए रद्द कर दिया गया कि उन्होंने अपने प्रस्तोता के रुप में जिन दो लोगों का नाम लिखा था उनके नाम सही ढंग से नहीं लिखे थे। दो प्रस्तोताओं के नाम गलत होने के कारण आयोग द्वारा यह कार्रवाई गई। वहीं दीपा जयकुमार द्वारा नामांकन पर्चा के साथ दाखिल किए जाने वाले आवेदन पत्रों को सही ढंग से नहीं भरने के कारण यह कार्रवाई की गई। विशाल के नामांकन पर्चा को खारिज किए जाने के बाद बाद और उनके लगभग ५० समर्थकांें ने आरके नगर हाई रोड पर विरोध प्रदर्शन किया। विशाल और उनके समर्थकों द्वारा विरोध प्रदर्शन करने के बाद पुलिस ने उन सभी को तोंडियारपेट पुलिस स्टेशन में हिरासत में ले लिया। हालांकि बाद में पुलिस ने विशाल को निर्वाचन अधिकारियों से मिलने की अनुमति दे दी। गौरतलब है कि कुछ समाचार पत्रों द्वारा यह खबर प्रकाशित की गई थी कि आरके नगर उपचुनाव में नामांकन पर्चा दाखिल करने वाले कुछ प्रत्याशियों द्वारा अपना पर्चा सही ढंग से नहीं भरा गया है और उनके द्वारा सौंपे गए आवेदन पत्रों में कई अनिवार्य रुप से भरे जाने वाले स्थानों को खाली छो़ड दिया गया था। निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार नामांकन पर्चा दाखिल करने के बाद प्रत्याशियों द्वारा सौंपे गए दस्तावेजों की जांच करना एक नियमित चुनावी प्रक्रिया के तहत आता है। इसके तहत यदि निर्वाचन अधिकारियों को ऐसा लगता है किसी प्रत्याशी द्वारा नामांकन पर्चा सही ढंग से नहीं भरा गया है या प्रत्याशी द्वारा नामांकन पर्चा दाखिल करने के दौरान उपलब्ध करवाई जाने वाली जानकारी सही ढंग से नहीं की गई है तो चुनाव आयोग के ऐसे नामांकन को रद्द करने का पूरा अधिकार होता है।मीडिया के एक वर्ग में इस प्रकार की खबरें भी आ रही हैं कि द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (द्रमुक) और अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) ने तकनीकी आधार पर विशाल द्वारा नामांकन पर्चा दाखिल करने का विरोध किया था। जिसके बाद विशाल के नामांकन पर्चा की जांच रोक दी गई थी। हालांकि बाद में आयोग ने विशाल के नामांकन पर्चा की जांच शुरु की और इसमें त्रुटि पाए जाने के बाद इसे रद्द कर दिया। निर्वाचन आयोग के अधिकारियों के अनुसार कुल मिलाकर ५४ प्रत्याशियों के नामांकन पर्चा को रद्द कर दिया गया।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा