तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों की जानकारी देने पर एक व्यक्ति की पिटाई

तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों की जानकारी देने पर एक व्यक्ति की पिटाई

सांकेतिक चित्र

मुंबई/भाषा। दिल्ली के निजामुद्दीन (पश्चिम) में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले लोगों की जानकारी कथित तौर पर ग्रामीण अधिकारी को देने के मामले में महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में कुछ लोगों ने एक व्यक्ति की पिटाई कर दी।

पुलिस ने बताया कि पिंपरी गांव के ग्रामसेवक ने तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने वाले सात लोगों की जानकारी दी थी और उनकी कोरोना वायरस की जांच कराने पर भी जोर दिया था।

पुलिस ने बताया कि जानकारी देने से नाराज एक समूह ने मंगलवार को व्यक्ति की पिटाई कर दी। इस संबंध में वैराग पुलिस थाने में एक मामला दर्ज किया गया है।

वहीं सोलापुर के एसपी मनोज पाटिल ने बताया कि इन सात लोगों की जांच रिपोर्ट में इन्हें कोरोना वायरस न होने की पुष्टि हुई है। आईपीएस अधिकारी ने कहा, ‘हमने सभी सात लोगों की जांच कराई। सभी की रिपोर्ट में उन्हें कोरोना वायरस ना होने की पुष्टि हुई है।’

इस बीच, महाराष्ट्र में बारामती अदालत ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन का उल्लंघन करने के मामले में तीन लोगों को तीन दिन की सजा दी। पुलिस ने दावा किया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने के मामले में सजा दिए जाने का यह पहला मामला है।

न्यायाधीश जेजे बछुलकर ने बुधवार को अफ़ज़ल अत्तार (39), चंद्रकुमार शाह (38) और अक्षय शाह (32) को तीन दिन के कारावास की सजा या 500-500 रुपए जुर्माना अदा करने का आदेश दिया।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जमीन से जुड़ाव जरूरी जमीन से जुड़ाव जरूरी
कम-से-कम अगले लोकसभा चुनाव तक तो इनकी चर्चा जारी रहेगी
'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.