शिक्षकों की श्रेष्ठता से ही होता है श्रेष्ठ नागरिकों का निर्माण : राठौड़

शिक्षकों की श्रेष्ठता से ही होता है श्रेष्ठ नागरिकों का निर्माण : राठौड़

जयपुर। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री राजेन्द्र राठौ़ड ने कहा है कि जिस देश में शिक्षकों की श्रेष्ठता रहेगी, उस देश में श्रेष्ठ नागरिकों का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति आरंभ से ही गुरू-शिष्य परम्परा से जु़डी रही है और इस संस्कृति में विद्या दान को ही श्रेष्ठतम माना गया है।राठौ़ड मंगलवार को यहां बि़डला सभागार में राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिक्षक ही शिष्य रूपी कच्ची मिट्टी को सांचे में ढालने का कार्य करते हैं। उन्होंने राजस्थान में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए किए गए प्रयासों की चर्चा करते हुए कहा कि मंगलवार को देश भर में राजस्थान के शिक्षा मॉडल की सराहना हो रही है तो इसका श्रेय हमारे शिक्षकों को ही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में ९० प्रतिशत से अधिक बच्चे स्कूल जा रहे हैं, यही हमारी सबसे ब़डी सफलता है। उन्होंने भारतीय परम्परा में गुरू संदीपनी, गुरू वशिष्ठ, गुरू द्रोणाचार्य आदि की चर्चा करते हुए कहा कि इनके कारण ही समाज को श्रेष्ठतम शिष्य मिले जिन्होंने अपने युग का प्रतिनिधित्व किया।

शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि राज्य में अगला वर्ष प्रदेश के शिक्षण संस्थाओं में शत-प्रतिशत परीक्षा परिणाम पर के्द्रिरत होगा। उन्होंने कहा कि आगामी शिक्षा सत्र के अंतर्गत शिक्षा, शिक्षार्थी और शिक्षण को केन्द्र में रखते हुए कार्य किया जाएगा। शिक्षा के चार एस की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा पहले एस का अर्थ है स्मार्ट स्कूल, दूसरे का स्किल डवलपमेंट, तीसरे का स्र्पोट्स और चौथा सेंसेबलिटी यानी संवेदनशीलता से जु़डा है। राजस्थान में इन चारों पर ही के्द्रिरत करते हुए शिक्षा के विकास को अमलीजामा पहनाया जा रहा है। उन्होंने अध्यापक शब्द की संधी विच्छेद भी की तथा कहा कि अ का अर्थ है अध्ययनशील, ध्य माने ध्यान से और प का अर्थ परीश्रमी और क कर्मठता का द्योतक है। देवनानी ने कहा कि शिक्षकों के कारण ही आज राजस्थान देश भर में शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी हो रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थाओं की पहचान वहां की सुंदर इमारतों से नहीं बल्कि वहां के शैक्षिक वातावरण, स्वच्छता और उपलब्ध गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से होती है। राजस्थान में इसी दिशा में निरंतर कार्य किया गया है और इसी से आज देशभर में राजस्थान के शिक्षा मॉडल की चर्चा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा समाज की बुराईयों को दूर करने का सबसे सक्षम माध्यम है। उन्होंने कहा कि राजस्थान स्वच्छ विद्यालय के अंतर्गत देशभर में तीन प्रमुख राज्यों में स्थान बना सका है तो इसका श्रेय शिक्षकों और टीम एजुकेशन को है। उन्होंने शिक्षा क्षेत्र में विकास के प्रयासों को निरंतर जारी रखे जाने तथा शिक्षित, विकसित राजस्थान के निर्माणका आह्वान किया। द्धष्ठट्टर्‍ द्धघ्य्ृय्ष्ठ, द्धष्ठट्टर्‍ झ्ढ्ढणक्कय्ृय्ष्ठ ·र्ैंर्‍ प्रय्झ्त्र् समारोह में बेटी प़ढाओ, बेटी बचाओ के संबंध में सभी को मुख्य अतिथि ग्रामीण विकास एंव पंचायती राज मंत्री राजेन्द्र राठौ़ड ने सामुहिक शपथ दिलाई। ्यप्रय्ूय्·र्ैंह्र ·र्ैंय् फ्द्बय्द्म समारोह में राज्य स्तर पर सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों, उत्कृष्ट एवं आदर्श विद्यालयों की रैंकिंग के आधार पर तीन जिला कलेक्टरों, शिक्षा अधिकारियों, परियोजना अधिकारियों को शॉल ओ़ढाकर, प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

कांग्रेस को बड़ा झटका, इस सीट से उम्मीदवार का नामांकन पत्र हुआ खारिज कांग्रेस को बड़ा झटका, इस सीट से उम्मीदवार का नामांकन पत्र हुआ खारिज
Photo: @INCIndia X account
मोदी के नेतृत्व में अब वोटबैंक की नहीं, बल्कि रिपोर्ट कार्ड की राजनीति है: नड्डा
कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी
हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ...
पाकिस्तान में आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर के सैनिक और 2 सरकारी अधिकारियों की हत्या की
उच्च न्यायालय ने बीएच सीरीज वाहन पंजीकरण पर नई शर्तें लगाने वाले परिपत्र को रद्द किया
राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना